spot_img
गुरूवार, जून 17, 2021
spot_imgspot_img
spot_img

adityapur-सरायकेला-खरसावां जिले में सड़क दुर्घटनाओं को लेकर लोग चिंतिंत, जन कल्याण मोर्चा ने लगाया यातायात जागरुकता अभियान, कहा-सड़क सुरक्षा को लेकर सरकार उठाए ठोस कदम, नहीं तो होगा उग्र आंदोलन

Advertisement
Advertisement

आदित्यपुर: सरायकेला- खरसावां जिले में पिछले एक साल के भीतर 200 से भी अधिक सड़क दुर्घटनाएं और इतने ही लोगों की दुर्घटनाओं में मौत के बाद अब जिले के बुद्धिजीवियों ने सरकार और जिला प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. रविवार को जन कल्याण मोर्चा आदित्यपुर अधिवक्ता संघ के साथ झारखंड लीगल एडवाइजरी डेवलपमेंट के सदस्यों ने आदित्यपुर स्थित पटेल चौक के समीप यातायात जागरूकता अभियान की शुरुआत की. उन्होंने सरकार और प्रशासन से सड़क पर पर्याप्त सुरक्षा के अलावा लाइट एवं सड़कों पर लगने वाले जाम से मुक्ति दिलाने की मांग की.

Advertisement
Advertisement

जनकल्याण मोर्चा के संरक्षक ओमप्रकाश ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर जल्द ही सरकार और जिला प्रशासन इस दिशा में ठोस पहल नहीं करती है, तो मोर्चा उग्र आंदोलन को बाध्य हो जाएगा. आपको बता दें, कि टाटा- कांड्रा सरायकेला एक्सप्रेसवे और आदित्यपुर पुल जन कल्याण मोर्चा के संघर्षों की ही देन है. एक बार फिर से हर दिन हो रहे सड़क दुर्घटनाओं पर जन कल्याण मोर्चा ने आर पार की लड़ाई का ऐलान कर दिया है. वहीं इस अभियान को समर्थन दे रहे चिकित्सकों ने भी सड़क सुरक्षा को बेहद अहम बताया.

Advertisement

प्रख्यात चिकित्सक डॉक्टर अशोक कुमार ने सड़क पर होने वाले दुर्घटना के बाद मरीजों को अस्पताल तक पहुंचाने के लिए जाम मुक्त सड़क जरूरी बताया. उन्होंने बताया, कि अगर हर्ट अटैक, ब्रेन हेमरेज या आकस्मिक दुर्घटना के मरीजों को समय पर चिकित्सकीय सुविधा मिल जाए तो उनका जान बचाना बहुत हद तक संभव हो पाता है. बहरहाल लगातार हो रहे सड़क दुर्घटनाओं में मौत के बाद सरायकेला जिले के सामाजिक संगठन अब सड़क पर उतर चुके हैं.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_imgspot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!