Ranchi-Violence- रांची हिंसा को लेकर सीएम हेमंत सोरेन ने बनायी दो सदस्यीय जांच कमेटी, एक सप्ताह में जांच रिपोर्ट सौंपने का निर्देश, जानें, मंत्री बन्ना गुप्ता, पूर्व सीएम रघुवर, विधायक सरयू व सुदेश महतो ने क्या कहा

राशिफल

रांची:झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने रांची में हिंसा के बाद काफी गंभीर नजर आ रहे है. उन्होंने इस घटना की जांच के लिए दो सदस्यीय कमेटी का गठन किया है.साथ ही कमेटी को एक सप्ताह मे जांच रिपोर्ट सौंपने का निर्देश भी दिया है.सीएम ने कहा कि घटना के दोषियों को किसी भी हाल में बख्ता नही जाएगा. फिलहाल रांची की स्थिति नियंत्रण में है. डीजीपी ने सभी अधिकारियों के साथ बैठक कर धटना की वस्तुस्थिति के बारे में अद्यतन जानकारी ले रहे है. रांची में कंट्रोल रुप में बनाया गया है जहां से पूरी घटना का नजर रखा जा रहा है. आखिर किस कारणों शहर के अमन चैन में खलल डाला गया, इसके पीछे किसका हाथ है उन फिरकापस्त लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.(नीचे भी पढ़े)

रांची के डीसी छवि रंजन ने कहा कि धीरे धीरे हालत सुधर रहे है, जितनी तेजी से हालत बिगड़े है उतनी ही तेजी से सुधर भी रहें है. इंटरनेट सेवा के बारे में कहा कल सेवा बंद रहेगी, ताकि सूचना का प्रसार पर अंकुश लगा रहे.बंद को लेकर रांची पुलिस कंट्रोल रूम से स्थिति पर नजर रखी जा रही है. सभी जगहों पर सीसीटीवी की मॉनिटरिंग की जा रही है. सभी संवेदनशील इलाकों में वीडियोग्राफी और ड्रोन कैमरे से निगरानी रखी जा रही है.मेन रोड पर अल्बर्ट एक्का चौक से लेकर सुजाता चौक तक आवाजाही पर रोक लगा दी गई है.इमरजेंसी सेवा से जुड़े वाहनों के अलावा किसी को भी उक्त क्षेत्र में आने-जाने नहीं दिया जा रहा है.वहीं कर्बला चौक से लेकर चर्च रोड काली मंदिर के पास भी बैरिकेडिंग कर दिया गया है.मेन रोड से जुड़े सभी लिंक रोड को बंद कर दिया गया है.जानकारी के अुनसार,जिला प्रशासन ने रांची के 12 थाना क्षेत्रों में धारा-144 लागू कर दिया है. इस घटना पांच अलग अलग थानों में प्राथ मिकी दर्ज करायी गयी है.(नीचे भी पढ़े)
सांप्रदायिक तत्वों पर कठोर कार्रवाई हो- विधायक सरयू राय
राजधानी में हुए बवाल पर निर्दलीय विधायक सरयू राय ने राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से शरारती तत्वों पर कठोर कार्रवाई करने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा है कि सरकार सांप्रदायिक मुद्दों पर कार्रवाई करें. उन्होंने कहा कि नूपुर शर्मा ने अपना कहा वापस ले लिया है. क्षमा याचना कर लिया है. पार्टी ने उन्हें निकाल दिया है. केंद्र सरकार ने पार्टी प्रवक्ता को फ्रिंज एलिमेंट (किनारे का व्यक्ति) करार दिया. इसके बाद भी रांची की सड़कों पर विरोध प्रदर्शन करने का मायने-मतलब क्या है. यह पूरी तरह शरारती तत्वों का काम है.
मौका परस्त लोगों को सफल होने नहीं देंगे- मंत्री बन्ना गुप्ता
स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने रांचीवासियों से अपील करते हुए कहा है कि हम मौका परस्त लोगों के मंसूबों को कामयाब नहीं होने देंगे.उन्होंने कहा है कि रांची में शुक्रवार को जो कुछ भी हुआ उस पर सरकार और पुलिस प्रशासन अपना काम कर रही है. किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जायेगी. उन्होंने कहा है कि कुछ मौका परस्त राष्ट्रीय एकता को तोड़नेवाले लोगों के षड़यंत्र के तहत रांची के माहौल को बिगाड़ने और आपस में लड़ाने का दुस्साहस किया है. राज्य के सभी अमन पसंद लोग देश को तोड़ने वाले मौका परस्त लोगों को सफल नहीं होने देंगे. हम गंगा-जमुनी तहजीब पर विश्वास करने वाले लोग हैं. ईद के मौके पर साथ में सेवाईयां और दीपावली में मिठाई खानेवाले लोग हैं. देश की एकता और अखंडता को तोड़ने वाले ऐसे लोगों से बचकर रहना है और राज्य में आपसी सौहार्द और अमन चैन को बनाये रखना है. उन्होंने सभी से अपील की है कि शांति बनाये रखें और ऐसे षड़यंत्रकारियों के मंसूबे को असफल करें. राज्य सरकार आप सभी अमन पसंद लोगों के साथ कदम से कदम मिला कर खड़ी है.
प्रशासनिक चूक के कारण रांची में हिंसा: रघुवर दास
राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि रांची में नमाज के बाद हिंसक घटना को पूर्व नियोजित बताया. गृह मंत्रालय ने पहले ही इसके लिए अलर्ट जारी कर दिया था. जब सरकार को इसकी जानकारी दी गयी थी तो प्रशासनिक तैयारी पूरी करनी चाहिए थी. लेकिन राज्य सरकार ने यह काम नहीं सर्तक नहीं हुई और देखते ही देखते ही रांची में बवाल हुआ.जिसमें दो लोगों की मौत की भी खबर है. साथ ही कई पुलिस कर्मी भी घायल हुए, यहां तक रांची की एसएसपी और कई थानेदार को चोटें आयी.सरकार को अब उपद्रवियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए. उन्होने सीएम हेमंत सोरेन कहा कि सरकार चलाना सबके बस की बात नही है. आप अपना इस्तीफा दे, और झामुमो के किसी अच्छे जानकार को सीएम की कुर्सी सौंप दे. साथ ही उन्होंने कहा कि घटना में जिस संगठन का नाम आ रहा है. रघुवर कार्यकाल में उस संगठन को पूरी तरह के बैन कर दिया गया था. सरकार उपद्रवियों का पहचान कर उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करें.
प्रशासनिक लापरवाही का परिणाम रांची हिंसा: सुदेश महतो
राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री सह आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो ने कहा कि रांची की हिंसा ने अमन चेन को छिन लिया है. उन्होंने कहा कि प्रशासनिक लापरवाही के कारण इतनी बड़ी घटना घटी. इसके लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से जिम्मेवार है. जब मालूम था कि नमान अदा के बाद समुदाय के लोग एकत्रित होंगे और विरोध प्रदर्शन करने वाले है. तो सरकार को चाहिए कि उसी आधार पर बल की तैनाती करती है जैसा कि जिला प्रशासन ने नहीं किया. घटना के दोषियों पर तो अवश्य ही कार्रवाई होनी चाहिए ताकि भविष्य में इस तरह की घटना की पुर्नावृति नही हो. सरकार को इस मामले में एसआईटी का गठन कर जांच करानी चाहिए.

Must Read

Related Articles