RBI-Decision-आरबीआई ने एक बार फिर बढ़ाया रेपो रेट,फिर से बढ़ा ईएमआई का बोझ, जानें क्यों बढ़ा रेपो रेट

राशिफल

नयी दिल्ली:रिजर्व बैंक आफ इंडिया (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत ने रेपो रेट में दूसरा बार बढ़ाया है. रेपो रेट 50 बेसिस प्वाइंट बढ़कर 4.90 फीसदी हो गया है. इसके अलावा आरबीआई ने मार्जिनल स्टेंडिंग फैसिलिटी को 0.50 फीसदी बढ़ाकर 5.15 कर दिया गया है. साथ ही एमएसएफ को 50 बेसिस प्वाइंट बढ़ाकर 4.65 कर दिया गया. आरबीआई के गवर्नर ने कहा कि रुस- यूक्रेन युद्ध के कारण मंहगाई भड़ गयी है. इससे अर्थव्यवस्था को कापी नुकसान पहुंचा है. बेकाबू मंहगाई को कम करने के लिए आरबीआई ने रेपो रेट बढ़ाने का निर्णय लिया है. (नीचे भी पढ़े)

इससे आम लोगों की जेब पर अतिरिक्त खर्च बढ़ेगा. इस फैसले के बाद होम लोन, कार लोन समेत अन्य लोन पर ब्याज की दरें बढ़ जाएंगी. जिसके कारण ईएमआई की रकम बढ़ जाएगी. विदित हो कि एक महीने पहले आरबीआई रेपो को बढ़ाया था, इससे ईएमआई का बोझ बढ़ा था, अब जबकि एक बार फिर रेपो रेट बढ़ाया गया है जिसके बाद ईएमआई जमा करने वाले पर अतिरिक्त बोझ बढ़ जाएगा. विदित हो कि आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की तीन दिवसीय बैठक के अंतिम दिन यह निर्णय लिया गया. यह बैठक 6 जून को शुरु हुई थी जो 8 जून को समाप्त हुई. (नीचे भी पढ़े)

इस चालू वित्तीय में आरबीआई एमपीसी की तीसरी बैठक थी.बढ़ती मंहगाई को लेकर समिति के सदस्यों ने इस बात पर जोर दिया कि रेपो रेट बढ़ाने के अलावा और कोई उपाय नहीं है. विदित हो कि इससे पहले 4 मई को भी आरबीआई ने अचानक ब्याज की दरों में बदलाव करने का निर्णय लिया था. गवर्नर श्री दास ने रेपो रेट को 4 फीसदी से बढ़ाकर 4.40 फीसदी कर दिया था. वहीं कैश रिजर्व रेशियो को भी 0.50 फीसदी से बढ़ाकर 4.50 फीसदी कर दिया था. शक्तिाकांत दास ने रेपो रेट बढ़ाने के पीछे का कारण बढ़ती मंहगाई को हवाला दिया गया. (नीचे भी पढ़े)

शक्तिदास दास ने पहले ही रेपो रेट को बढ़ाने के संकेत दिए थे. विशेषज्ञों ने इस बारे में बताया कि ब्याज दरों में 50 बेसिस प्वांइट की बढ़ोतरी का अनुमान लगाया था. गवर्नर ने कहा कि केंद्रीय बैंक भारतीय मु्द्रा के अवमूल्यन की अनुमति नहीं दे सकता है. आरबीआई को करेंसी बाजार की अस्थिरता को रोकना है. इसलिए अगले माह आरबीआई मंहगाई का नया पूर्वानुमान जारी कर सकेगा. श्री दास ने कहा कि आगे यह भी कहा था कि रेपो रेट में बढ़ोतरी की जाएगी.हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया था कि यह बढ़ोतरी कितनी होगी. कहा कि आरबीआई के इस कदम से खुदरा कीमतों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा.

Must Read

Related Articles