saraikela-army-jawan-funeral-राजनगर के रहने वाले सैन्य जवान का सैन्य सम्मान के साथ किया गया अंतिम संस्कार, रो पड़ा गांव

राशिफल

सरायकेला : भारतीय सैनिक रवि सोरेन का सरायकेला-खरसावां जिले के राजनगर प्रखंड में अंतिम संस्कार कर दिया गया. पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया. इस दौरान गांव के लोग भी रो पड़े. परिवारजनों ने उनको अंतिम विदाई दी. सरायकेला-खरसावां जिले के राजनगर प्रखंड क्षेत्र के सुड़सी गांव निवासी भारतीय सैनिक रवि सोरेन का रविवार तड़के लगभग छह बजे कोलकाता के कमांड हॉस्पिटल में निधन हो गया था. रवि सोरेन 32 वर्ष के थे. पिछले करीब तीन माह से कोलकाता में उनका इलाज चल रहा था. उन्हें किडनी की बीमारी थी. कोलकाता से उनका पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव सुड़सी लाया गया, जहां उनको अंतिम विदाई दी गयी. (नीचे पूरी खबर पढ़ें)

उससे पहले जमशेदपुर के सोनारी स्थित आर्मी कैंप में रवि सोरेन के पार्थिक शरीर को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. कैंप में श्रद्धांजलि देने के बाद पार्थिव शरीर को गांव ले जाया गया, जहां भी उनको श्रद्धांजलि अर्पित की गयी. रवि सोरेन के पार्थिव शरीर को उनकी पत्नी शिवानी सोरेन, माता करुणा सोरेन एवं अन्य परिजनों ने भी विदाई दी और उनको अंतिम सलामी भी दी. परिवार का रो-रोकर बुरा हाल था. परिवार के साथ गांव के लोग भी गमजदा थे. गांव में मातम का माहौल है. कई घरों में भी चूल्हा नहीं जल पाया है. रवि सोरेन चार भाई बहनों में सबसे बड़ा था. रवि से छोटे तीन भाई व एक बहन हैं. वहीं रवि से छोटा सुधीर सोरेन, राजेश सोरेन एवं एक बहन सोलमा सोरेन है. बहन की शादी हो चुकी है. छोटा भाई सुधीर सोरेन भी शादीशुदा हैं. रवि के पिता स्वर्गीय विशु सोरेन भी सेना में थे. (नीचे पूरी खबर पढ़ें)

रवि सोरेन ने वर्ष 2010 में इंडियन आर्मी जॉइन किया था. वह बिहार रेजिमेंट-8 का जवान था. वर्तमान में सिलीगुड़ी में पोस्टेड था. वर्ष 2007 में रवि ने एसएस प्लस टू हाईस्कूल राजनगर से मैट्रिक पास आउट थे और बचपन से आर्मी में जाकर देश सेवा करना उनका सपना था. तीन साल के मेहनत से ही रवि ने आर्मी में जाने का सपना को पूरा किया, लेकिन किस्मत को कुछ और मंजूर था. नौकरी में रहते हुए ही उन्हें किडनी जैसी गंभीर बीमारी ने जकड़ लिया. वर्ष 2018 में डेमकाडीह की शिवानी सोरेन से रवि की शादी हुई थी. उनकी कोई संतान नहीं है.

Must Read

Related Articles