spot_img

Saraikela-big-news : 8 घंटे के ऑपरेशन में पुलिस ने अपहर्ताओं के चंगुल से चालक को कराया मुक्त, स्कॉर्पियो बरामद, एक हिरासत में, जानिए किन जांबाज़ अधिकारियों की वजह से बड़ा हादसा टला

राशिफल

संतोष कुमार / सरायकेला : सरायकेला- खरसावां पुलिस के तीन जांबाज़ अधिकारियों ने जिले को जलने से बचा लिया. करीब 8 घंटे तक कड़ी मशक्कत के बाद सीमलबेड़ा से अपहृत स्कार्पियो चालक को स्कॉर्पियो सहित पुलिस ने उदयपुर से सकुशल बरामद कर लिया. इस पूरे मिशन में आमदा ओपी प्रभारी सनोज कुमार चौधरी, खरसावां थाना प्रभारी प्रकाश रजक एवं सरायकेला थाने के प्रभारी इंचार्ज सनी टोप्पो की जुगलबंदी से न केवल अपहृत स्कार्पियो चालक स्कोर्पियो सहित बरामद किया गया, बल्कि सीमलबेड़ा के ग्रामीणों द्वारा बंधक बनाए गए नाबालिग गौ तस्कर युवक को भी सकुशल छुड़ा लिया गया है. बुधवार देर रात ग्रामीणों के चंगुल से तीनों जांबाज़ अधिकारियों ने आक्रोशित ग्रामीणों को समझाते हुए सकुशल बरामद कर लिया. इधर स्कार्पियो चालक की लिखित आवेदन के आधार पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है. (नीचे भी पढ़ें)

जब सनोज चौधरी और प्रकाश रजक को झेलना पड़ा ग्रामीणों का आक्रोश
अपहरण के बाद ग्रामीण आक्रोशित हो उठे करीब 6 घंटे तक लुकाछिपी के बाद जब चालक बरामद कर लिया गया. उसके बाद सनोज कुमार चौधरी एवं प्रकाश रजक ग्रामीणों के पास संदेशा लेकर पहुंचे, मगर ग्रामीण चालक को सकुशल गांव पहुंचाने पर अड़े रहे. दोनों पदाधिकारियों ने करीब डेढ़ घंटे से भी ज्यादा समय तक ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया मगर ग्रामीण नहीं माने. यहां तक कि जब दोनों पदाधिकारी लौटने लगे तो ग्रामीणों ने उनकी गाड़ी रोक ली. हालांकि बाद में ग्रामीण मान गए और समझा-बुझाकर गाड़ी को जाने दिया. इस दौरान दोनों बहादुर अधिकारियों ने बेहद ही चतुराई से ग्रामीणों के आक्रोश को झेला और काफी हद तक ग्रामीणों के आक्रोश को शांत करने में सफलता भी पाई. (नीचे भी पढ़ें)

क्या था मामला
सरायकेला थाना अंतर्गत सीमलबेड़ा गांव के समीप विश्व हिंदू परिषद एवं बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने तस्करी के लिए ले जा रहे 19 बैलों के साथ एक नाबालिग सहित दो लोगों को धर दबोचा, जिसके बाद आक्रोशित खास समुदाय के लोगों ने विश्व हिंदू परिषद के प्रमुख के चालक को हथियार के बल पर स्कॉर्पियो संख्या JH05BB- 6230 सहित अपहरण कर अज्ञात स्थल पर लेकर चले गए थे. अपहर्ताओं ने 19 बैलों सहित तीनों को छोड़ने की शर्त रखी थी. उधर अपहरण की सूचना मिलते ही सरायकेला थाना पुलिस मौके पर पहुंची, जहां विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों ने दो तस्करों को पुलिस को सौंप दिया था. जबकि नाबालिक को ग्रामीण अपने कब्जे में रखे हुए थे. इसको लेकर ग्रामीणों एवं विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल कार्यकर्ताओं में नाराजगी व्याप्त थी. (नीचे भी पढ़ें)

ग्रामीणों ने बताया कि आए दिन गौ तस्कर गांव से होकर मवेशियों को लाते ले जाते हैं. इसी निमित्त बुधवार को विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल की एक बैठक बुलाई गई थी. इसी क्रम में विश्व हिंदू परिषद के प्रमुख की नजर गांव से होकर बैल ले जा रहे दो तस्करों पर पड़ी. जिसे उन्होंने स्कॉर्पियो से उतर कर रोक दिया. जैसे ही स्कॉर्पियो चालक स्कॉर्पियो लेकर आगे बढ़ा, कि हथियारबंद खास समुदाय के लोगों ने उसे स्कॉर्पियो सहित अपहरण कर अज्ञात स्थल पर लेकर चले गए और यह शर्त रखी, कि पहले तीनो तस्करों एवं बैलों को उनके हवाले करें, तभी स्कार्पियो चालक को छोड़ा जाएगा. जिसके बाद दोनों पक्षों के बीच तनाव की स्थिति बन गयी. उधर जिला पुलिस मुख्यालय से भारी संख्या में पुलिस बलों को बालीपोसी एवं सीमलबेड़ा गांव के आसपास तैनात किया गया. अंततः आठ घंटे के बाद पुलिस ने जिले को जलने से बचा लिया. (नीचे भी पढ़ें)

क्या कहा एसपी ने
इस संबंध में एसपी आनंद प्रकाश ने बताया कि जैसे ही उन्हें सूचना मिली तत्काल एक टीम गठित कर दी गई. टीम ने बेहद ही सूझबूझ के साथ न केवल चालक को अपहर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराया, बल्कि ग्रामीणों के कैद से नाबालिग युवक को भी मुक्त कराया. उन्होंने अभियान में लगे सभी पुलिस पदाधिकारियों के कार्यों की सराहना की एवं उन्हें बधाई दी. उन्होंने बताया, कि पूरे मामले की जांच शुरू कर दी गई है. दोषी बख्शे नहीं जाएंगे. वहीं गौ तस्करी के सवाल पर एसपी ने बताया कि इसकी जांच की जा रही है. दोषी बख्शे नहीं जाएंगे. किसी कीमत पर जिले में अनैतिक कार्य बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे.

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!