spot_img
गुरूवार, जून 17, 2021
spot_imgspot_img
spot_img

Saraikela-Kharsawan : जंगल में अगलगी पर काबू पाने के लिए टास्क फोर्स का गठन करेगा सरायकेला वन विभाग

Advertisement
Advertisement

सरायकेला : इस साल समय से पहले गर्मी पड़ने लगी है. वहीं पहाड़ों और जंगलों में आग भी लगने का सिलसिला शुरू हो चुका है. वैसे मार्च से मई तक हर साल जंगल में आग से जंगली जानवरों के अलावा इमारती लकड़ियां भी जलकर खाक हो जाती हैं. इस साल लगातार झारखंड के सरायकेला-खरसावां जिला के चांडिल और खरसावां इलाके के जंगलों में अगलगी की घटनाएं हो रही है. साथ ही दलमा अभ्यारण्य में भी आग से पशु-पक्षी और पेड़ झुलस रहे हैं. वन विभाग के अधिकारियों का दावा है कि इसको लेकर जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है. सरायकेला वन प्रमंडल पदाधिकारी आदित्य नारायण बताते हैं कि जंगलों में आग की सेटेलाइट से मॉनिटरिंग की जा रही है और उन्हें सूचना मिलते ही दमकल विभाग के सहयोग से आग पर काबू पाने का प्रयास किया जा रहा है. वहीं इसके लिए उन्होंने कई कारण गिनाए. (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement
Advertisement

उन्होंने बताया कि कुछ लोग अज्ञानता वश सिगरेट या बीड़ी पी कर जंगलों में या सड़क के किनारे फेंक देते हैं जो धीरे-धीरे फैलकर आग में तब्दील हो जाता है. इसके अलावा जंगलों से सटे ग्रामीण इलाकों के लोग भी अज्ञानता वश ऐसी गलती कर देते हैं. वहीं कुछ शिकारी तीन तरफ से जंगलों में आग लगाकर एक तरफ घात लगाए बैठे रहते हैं और जानवरों के निकलने पर उनका शिकार करते हैं. डीएफओ ने जंगलों से सटे सीमावर्ती गांवों में जागरूकता अभियान चलाने की बात कही. वहीं उन्होंने बताया, कि कई ऐसे दुर्गम इलाके भी होते हैं, जहां दमकल की गाड़ियां नहीं पहुंच पाती हैं, वहां ग्रामीण भी आग बुझाने में वन विभाग के कर्मचारियों का सहयोग करते हैं. इसके लिए उन्होंने टास्क फोर्स गठित किए जाने की बात कही है, ताकि आग पर तत्काल काबू पाया जा सके. वैसे इस साल जंगलों में आग की कई घटनाएं सामने आई है.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_imgspot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!