Saraikela : सरायकेला-खरसावां खनन विभाग का एक अदद भवन नहीं, पुराने भवन में नहीं बैठते अधिकारी, जान जोखिम में डाल कर नौकरी की खानापूर्ति करते हैं कर्मचारी

राशिफल

संतोष कुमार / सरायकेला : राज्य का सबसे महत्वपूर्ण विभाग खनन विभाग है. हाल ही में राज्य की निलंबित खान सचिव पूजा सिंघल उनके अकाउंटेंट व रिश्तेदारों के घर से ईडी ने करोड़ों नगदी सहित अकूत संपत्ति का खुलासा किया है. जिस पर जांच चल रही है. राज्य का सबसे महत्वपूर्ण विभाग और सबसे ज्यादा राजस्व देनेवाले खनन विभाग का कार्यकाल भी खास होना चाहिए, मगर आपको ये जानकर हैरानी होगी कि राज्य में एक ऐसा जिला भी है, जहां के सबसे महत्वपूर्ण विभाग और सबसे ज्यादा राजस्व देने वाले विभाग का अपना भवन भी नहीं है. भवन अगर है भी तो वह खंडहर में तब्दील हो चुका है. जहां अधिकारी तो बैठते ही नहीं, कर्मचारी नौकरी के नाम पर खानापूर्ति करने जरूर आते हैं, मगर उनकी जान हमेशा जोखिम में लटकी रहती है. हम बात कर रहे हैं सरायकेला-खरसावां जिला खनन विभाग का. जरा इन तस्वीरों को आप गौर से देख लीजिए. हालांकि यहां के अधिकारी भी ईडी की जांच के दायरे में हैं, और इन पर विभागीय जांच भी चल रहा है. (नीचे भी पढ़ें)

हैरान करने वाली बात यह है कि अब तक इस कार्यालय को एक भवन भी नसीब नहीं हुआ है. यहां काम करने वाले एक कर्मचारी बलराम महतो ने बताया, कि यह कार्यालय पहले मेसो ऑफिस था. साल 2008 में इसे खनन विभाग को हस्तांतरित किया गया. तब से लेकर आज तक विभाग इसी कार्यालय से संचालित हो रहा है. आजतक न रिपेयरिंग हुआ, न ही इसका जीर्णोद्धार हुआ. यहां काम करने में डर लगता है. हमेशा जान सांसत में बनी रहती है. बरसात के मौसम में यहां के छतों से पानी रिसता है. जिससे महत्वपूर्ण दस्तावेजों के नष्ट होने का खतरा बना रहता है. आलम यह है, कि अगर समय रहते इस भवन को दुरुस्त नहीं कराया गया, तो इससे इनकार नहीं किया जा सकता, कि इस साल बारिश में यह भवन पूरी तरह जमींदोज हो जाए.

Must Read

Related Articles