spot_img
शुक्रवार, मई 14, 2021
spot_imgspot_img
spot_img

shayar-rahat-indori-death-jamshedpur-shocked-मशहूर शायर राहत इंदौरी का इंदौर में निधन, जमशेदपुर में शोक, जमशेदपुर में टाटा स्टील समेत अन्य की मेजबानी में 4 बार अपने शेरो-शायरी से लोगों को कर चुके है ओतप्रोत, जमशेदपुर में राहत इंदौरी ने कहा था-”मेरा जमीर, मेरा एतबार बोलता है, मेरी जुबान से परवरदिगार बोलता है…..मगर वह झूठ बहुत शानदार बोलता है…..”

Advertisement
Advertisement
टाटा स्टील के मुशायरा में भाग लेने आये राहत इंदौरी जुस्को के एमडी तरुण डागा और टाटा स्टील के वीपी के साथ.

जमशेदपुर : ”मेरा जमीर मेरा एतबार बोलता है, मेरी जुबान से परवरदिगार बोलता है, कुछ और काम जैसे उसे आता ही नहीं, मगर वह झूठ बहुत शानदार बोलता है…., शेर के अशआर मशहूर शायर राहत इंदौरी के थे, जिन्होंने जमशेदपुर के धातकीडीह कम्यूनिटी सेंटर मैदान में अंतिम बार अपने लब्ज से कहें थे. आज जमशेदपुर के लोग उनके शेरो-शायरी को याद कर रहे है. वजह है कि राहत इंदौरी (70) का देहावसान हो जाना. मशहूर शायर राहत इंदौरी का मंगलवार को मध्यप्रदेश के इंदौर के एक अस्पताल में निधन हो गया. उनको कोरोना पोजिटिव पाया गया था. उनका उपचार इंदौर के एक अस्पताल में चल रहा था कि उनका निधन मंगलवार को हो गया. वैसे सोमवार को ही वे कोरोना पोजिटिव पाये गये थे.

Advertisement
Advertisement
जमशेदपुर के अपने चाहने वालों के साथ राहत इंदौरी.

राहत इंदौरी ने जमशेदपुर में करीब 4 से अधिक बार अपने शेरो-शायरी से सबको ओत-प्रोत किया था. वे जमशेदपुर में इससे पहले वर्ष 2018 में चार बार आये थे. पहले वे एनआइटी जमशेदपुर (सरायकेला-खरसावां के आदित्यपुर में) में वार्षिक समारोह में हिस्सा लेने आये थे. इसके अलावा टाटा स्टील द्वारा 26 अक्तूबर 2018 को जब धातकीडीह कम्यूनिटी सेंटर में मुशायरा का आयोजन किया गया था, तब वे यहां आये थे. यहां उनकी बड़ी महफिल सजी थी, जिसमें असर भागलपुरी, ताबा वास्ती, शादाब आजमी, सुफील शाही, नश्तर अमरोही, नईम अख्तर खादमी, मुमताज नसीम, कुंवर जावेद, सुंदर मालेगामी और राहत इंदौरी के पुत्र अल्ताफ जिया ने हिस्सा लिया था. जमशेदपुर के मुश्ताक अहजन ने भी इसमें हिस्सा लिया था. इसके अलावा राहत इंदौरी 24 फरवरी 2018 को साकची रवींद्र भवन में आयोजित एक अखबार के कार्यक्रम में हिस्सा लेने आये थे जबकि 25 मई 2018 को भी एक अन्य अखबार के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए वे आये थे. आज उनकी कमी से पूरे देश के साथ झारखंड और जमशेदपुर याद कर रहा है.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_imgspot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!