spot_img
शुक्रवार, जून 18, 2021
spot_imgspot_img
spot_img

talent award: चाईबासा में सम्मानित किए गए मैट्रिक- इंटर के मेधावी छात्र- छात्राएं

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

चाईबासा: कीमती चीजें आसानी से नहीं मिलती, इसे पाने के लिए कठिन संघर्ष करना पड़ता है. खुद‌ पर विश्वास कर सतत प्रयास के साथ संघर्ष करें तो हमे जीवन में सफलता हासिल कर सकते हैं. उक्त बातें सदर प्रखंड के कमारहातु बुद्धिजीवी मंच की ओर से मैट्रिक एवं इंटरमिडिएट परीक्षा में शानदार प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों को सम्मानित करने के लिए आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए जेपीएससी परीक्षा में प्रशासनिक सेवा में चयनित चाईबासा के बरकंदाज टोली निवासी अजय कच्छप ने कही. उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि संघर्ष करने के लिए स्वास्थ्य रहना आवश्यक है. उन्होंने कहा कि निराशा को जिंदगी में जगह बिल्कुल नहीं दें. जब निराशा आती है तो अपने अतिरिक्त गुणों जैसे चित्रकारी, संगीत,खेल आदि सहारा लें. उन्होंने कहा कि मैट्रिक व इंटरमिडिएट उत्तीर्ण करने के साथ ही आगे का लक्ष्य कर लें. विशिष्ट अतिथि कृषि बाजार समिति जमशेदपुर के सचिव सह कोल्हान डिजिटल लाइब्रेरी के संयोजक संजय कच्छप ने कहा कि कहा कि पढ़ाई में मेधावी बनने के साथ ही अपने नैतिक गुणों से परिपूर्ण होकर भविष्य में समाज का आदर्श भी बनना है ताकि हम समाज से लिये हुए अच्छे गुणों को अगली पीढ़ी को देने के काबिल बना सके.

Advertisement

शिक्षक विमल किशोर बोयपाई ने कहा कि स्वयं को इच्छा शक्ति के धनी बनें।अगर हमें दृढ़ इच्छाशक्ति हो तो मंजिल पाने की राह ढूंढ़ने में कठिनाई नहीं होती है. साथ ही, उन्होंने बच्चों से आह्वान किया कि वे मेधावी के साथ ही चरित्र रुपी गहने को जीवन भर संजोकर रखें ताकि इंसान होने की परिभाषा हममें बखूबी दिखने लगे. वहीं पीएचडी कर रही क्रिस्टिना देवगम ने कहा कि मैट्रिक व इंटरमिडिएट के विद्यार्थियों को टीन-एजर्स कहते हैं. यह उम्र काफी चंचल होता है. जिससे राह भटकने का हमेशा डर बना रहता है. वहीं इस बार उर्सुलाइन इंटर कॉलेज रांची से इंटर 71 फीसदी अंक से पास की हुई कल्पना देवगम ने कहा कि हम विद्यार्थी अपने माता-पिता के अच्छे आचरण को सहर्ष अनुकरण करें .क्योंकि हमें अपने घरों से ही काफी अच्छी चीजें सीखने को मिलता है.

Advertisement

सम्मान समारोह में मधुसूदन महतो उवि.चक्रधरपुर से मैट्रिक में 88 फीसदी अंक प्राप्त करने वाला सामु देवगम भविष्य में वह डॉक्टर बनना चाहता है. वहीं उसी स्कूल से 87 फीसदी अंक प्राप्त करने वाला लोरेंस देवगम ने कहा उनका सपना आइएएस अधिकारी बनना है. इंटर में विशाखापत्तनम से 89 फीसदी अंक पाने वाली एंजलिना देवगम भविष्य में प्रशासनिक सेवा में जाना चाहती है.समारोह में सम्मानित होने छात्र- छात्रा: नाजिर देवगम, गीता देवगम,वीरेन देवगम,सीता देवगम,साउ देवगम,दीपक पाड़ेया,सोनी देवगम,बसंती देवगम,अनीष अभिषेक देवगम,विनिता देवगम होलिका देवगम समेत तैंतीस मेधावी छात्र छात्राएं शामिल थे. इस अवसर पर सीआइएसएफ इंस्पेक्टर सोनाराम देवगम, पुलिस सार्जेंट मेजर रांधो देवगम, ग्राम मुंडा बिरसा देवगम,वार्ड सदस्य रमेश देवगम, पूर्व वार्ड सदस्य अभय देवगम,सोमय देवगम,पूर्व मुंडा दीनबंधु देवगम,सैनिकद्वय भीमसेन देवगम, नारायण देवगम,सुरजा देवगम, समाज सेविका मंदुई पुरती पाड़ेया, तुराम देवगम, मंगलसिंह तियू, दीपिका देवगम, सचिन देवगम,रुस्तम देवगम, सेलेस्टिना देवगम,संगीता देवगम,नम्रता देवगम, धर्मेन्द्र देवगम आदि उपस्थित थे.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_imgspot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!