टाटा मोटर्स में रविवार को आयेंगे एबी लाल, करा सकते है ग्रेड व बोनस समझौता, समझौता का प्रारूप तैयार, स्थायीकरण पर जिच कायम, टाटा मोटर्स में ज्यादा दिन तक बैठने वाले कर्मचारी लगा रहे हैं यूनियन का चक्कर

Advertisement
Advertisement

जनशेदपुर : जमशेदपुर की दूसरी बड़ी कंपनी टाटा मोटर्स में ग्रेड रिवीजन एवं बोनस समझौता को लेकर गहमा-गहमी जारी है. कर्मचारियों के उत्सुकता के बीच ग्रेड रिवीजन व बोनस समझौता कभी भी हो सकता है. यूनियन अधिकारियों ने बताया कि दोनों का प्रारूप करीब-करीब तैयार हो चुका है जबकि स्थायीकरण को लेकर जिच अब भी कायम है. इस बीच चर्चा है कि अब कंपनी के मैनुफैक्चरिंग हेड एबी लाल समझौता कराने शहर पहुंचने वाले हैं. सूत्रों की माने तो भी 8 सितंबर, रविवार तक शहर पहुंच जाएंगे. ब्लॉक क्लोजर के बाद कंपनी सोमवार को खुलेगी. उसी दिन ग्रेड रिवीजन अथवा बोनस समझौते पर हस्ताक्षर हो सकता है. एबी लाल को जानने वाले बताते हैं कि ग्रेड डिवीजन अथवा बोनस समझौता कराने में वे माहिर हैं. यूनियन भी उनके साथ बहुत ही सहज रहती है. यूनियन के शीर्ष नेता से लेकर नीचे तक के अधिकारी उनके हरफनमौला स्वभाव के कारण सम्मान करते हैं. वे समझौते पत्र पर हस्ताक्षर आसानी से करा लेते हैं. इसका जीता जागता उदाहरण बीते साल वे रात 12 बजे के बाद भी समझौता करा चुके हैं. बहरहाल यूनियन रोजाना बोनस व ग्रेड पर प्रबंधन के साथ बैठकर इसे अंतिम रूप देने में लगा हुआ है, जिसमें बाइ-सिक्स कर्मियों के ज्यादा से ज्यादा स्थायीकरण का मुद्दा अहम है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

टाटा मोटर्स में ज्यादा दिन तक बैठने वाले कर्मचारी लगा रहे हैं यूनियन का चक्कर
टाटा मोटर्स में छायी मंदी के कारण सैकड़ों बायसिक्स कर्मियों को काम से बैठना पड़ा है. कई विभागों में इसको लेकर रोटेशन वाइज कर्मचारियों को काम पर बुलाया जा रहा है. लेकिन कई विभाग ऐसे हैं जहां पिछले डेढ़ 2 महीनों से ज्यादा दिनों से कर्मचारियों को बैठाया गया. अब तक काम पर नहीं बुलाया गया है. वैसे कर्मचारी टाटा मोटर्स वर्कर्स यूनियन का चक्कर लगा रहे हैं. कर्मी अपना टिकट नंबर के साथ जिस तिथि से बैठे हैं उसका ब्यौरा रजिस्टर्ड में नोट कराया जा रहा है. इसके बाद यूनियन की एक टीम उस विभाग के डीजीएम समेत अन्य अधिकारियों से बात कर उन कर्मचारियों को बुलाने का आग्रह कर रही है. यह पहल यूनियन के शीर्ष अधिकारियों के द्वारा की गई है ताकि सभी कर्मचारियों को हर माह कुछ दिन ही सही काम मिलता रहे. रोजी रोटी चलता रहे. वैसे जानकारी के अनुसार हर एक सोमवार को इसका रोटेशन शुरू होता है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement