The-Graduate-School-College-for-Women : नियमों को ताक पर रख प्रैक्टिस टीचिंग कर रही छात्राओं को पिकनिक पर ले गये विभागाध्यक्ष, कोल्हान विश्वविद्यालय ने कहा-होगी जांच

राशिफल

जमशेदपुर : जमशेदपुर के साकची स्थित ग्रेजुएट स्कूल कॉलेज फॉर वीमेन के बीएड विभागाध्यक्ष के खिलाफ नियमों की अनदेखी कर प्रैक्टिस टीचिंग में शामिल छात्राओं को पिकनिक पर ले जाने का मामला प्रकाश में आया है. हालांकि विभागाध्यक्ष डॉ विशेश्वर यादव ने इसे प्रैक्टिस टीचिंग का ही एक हिस्सा बताया है. वहीं जानकार और कोल्हान विश्वविद्यालय के अधिकारियों की मानें, तो यह नियम के विपरीत है. पिकनिक टीचिंग एक्टीविटी के तहत नहीं आती है. विश्वविद्यालय प्रशासन इस मामले में गंभीर है. साथ ही कहा है कि इस मामले की जांच होगी. (नीचे भी पढ़ें)

क्या है मामला
मामला पिछले गुरुवार का है. जमशेदपुर के बाराद्वारी स्थित पीपुल्स एकेडमी हाई स्कूल में द ग्रेजुएट स्कूल कॉलेज फॉर वीमेन में अध्ययनरत बीएड की नौ छात्राएं प्रैक्टिस टीचिंग कर रही हैं. यह उनके कोर्स के तहत आता है. इसी बीच गुरुवार को कॉलेज के विभागाध्यक्ष उन्हें पिकनिक पर लेकर चले गये. इसकी जानकारी उन्होंने स्कूल के प्राचार्य को पहले से नहीं दी थी. बताया तो यह भी जाता है कि पीपुल्स एकेडमी हाई स्कूल के अलावा एक अन्य स्कूल में भी प्रैक्टस टीचिंग कर रही छात्राओं को साथ में पिकनिक पर ले जाया गया था. वहां कॉलेज की एक शिक्षिका सुपरवाइजर हैं. (नीचे भी पढ़ें)

स्कूल के प्राचार्य क्या कहते हैं
पीपुल्स एकेडमी हाई स्कूल के प्राचार्य चंद्रदीप पांडेय ने बताया कि डॉ यादव यहां (पीपुल्स एकेडमी हाई स्कूल) प्रैक्टिस कर रही सभी नौ छात्राओं को पिकनिक पर लेकर गये थे. पिकनिक पर ले जाने की जानकारी उन्होंने पहले नहीं दी थी. गुरुवार को ही अचानक जानकारी दी और लेकर चले गये. इस पर मैंने उन्हें आज (गुरुवार) को ही प्रैक्टिस टीचिंग खत्म करने की बात भी कही थी. (नीचे भी पढ़ें)

क्या कहते हैं डॉ विशेश्वर यादव
ग्रेजुएट कॉलेज के बीएड विभागाध्यक्ष डॉ विशेश्वर यादव ने कहा कि पीपुल्स एकेडमी हाई स्कूल में प्रैक्टिस टीचिंग कर रही छात्राओं को पिकनिक पर ले जाया गया था. ऐसा एक्टिवीटी के तहत किया गया था. यह टीचिंग एक्टीविटी है. दो दिन बाद प्रैक्टिस टीचिंग खत्म हो रही है. उसके बाद भी अन्य एक्टिविटी होगी. यह पूछे जाने पर कि छात्राओं को पिकनिक कहां लेकर गये थे, तो उन्होंने कहा कि हाता के तरफ लेकर गये थे. लेकिन कहां ले गये थे, उस पिकनिक स्पॉट का नाम बताने से उन्होंने इन्कार कर दिया. (नीचे भी पढ़ें)

क्या कहते हैं जानकार
इस संबंध में जानकार लोगों से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि प्रैक्टिस टीचिंग के तहत छात्राओं को पिकनिक या अन्य एक्टिविटी नहीं करायी जाती. हां यदि संबंधित स्कूल की एक्टिविटी के तहत पिकनिक वगैरह होता है, तो वह प्रैक्टिस टीचिंग कर रही छात्राओं को लेकर जा सकता है. क्योंकि उस दौरान जिम्मेवारी स्कूल की होती है. अन्यथा यदि किसी छात्रा या छात्र को कुछ हो जाता है, तो उसके लिए जिम्मेवार कौन होगा. (नीचे भी पढ़ें)

केयू के प्रवक्ता ने क्या कहा
कोल्हान विश्वविद्यालय के प्रवक्ता डॉ पीके पाणि ने भी बताया कि प्रैक्टिस टीचिंग के दौरान संबंधित स्कूल चाहे तो छात्र या छात्राओं को पिकनिक वगैरह पर लेकर जा सकता है. क्योंकि प्रैक्टिस टीचिंग के दौरान जिम्मेवारी उसकी होती है. सुपरवाइज (कॉलेज के शिक्षक अथवा विभागाध्यक्ष) छात्र अथवा छात्राओं को प्रैक्टिस टीचिंग के दौरान वहां से कहीं नहीं ले जा सकते हैं. यदि ऐसा हुआ है, तो यह गंभीर मामला है. यह भी देखना होगा कि उन्होंने वोकेशनल कोर्स को-आर्डिनेटर से अनुमति ली थी या नहीं. रजिस्टर आने पर उसकी जांच होगी. डॉ पाणि ने यह भी कहा कि पिकनिक टीचिंग के तहत नहीं आती. अतः यह एक्टिवीटी प्रैक्टिस टीचिंग का हिस्सा हो ही नहीं सकती.

Must Read

Related Articles