The-young-man-made-lockdown-a-opportunity : बिहार के भागलपुर के लाल ने लॉकडाउन को बदल लिया अवसर में महामारी काल में रच दिया इतिहास

Advertisement
Advertisement

संतोष कुमार
वैश्विक महामारी के इस दौर ने जहां देश ही नहीं पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया. कोरोना महामारी ने दुनिभर में लाखों को लील लिया. लाखों को बेरोजगार कर दिया. वहीं भारत भी इससे अछूता नहीं रहा. यहां भी कोरोना काल की त्रासदी लाखों मजदूरों ने झेला. यहां भी लोगों ने मजदूरों के पलायन का वो मंजर देखा. तपती धूप में पैदल ही अपने वतन वापसी को विवश प्रवासी मजदूरों के करूण मंजर रोंगटे खड़े कर देनेवाले थे. केंद्र औऱ राज्य सरकारें विवश बस इसे नियती मान चुके थे. इन सबके बीच बिहार के भागलपुर के एक युवक ने कोरोना महामारी काल को अवसर में बदलने की ठानी और लिख दिया इतिहास. आज युवक द्वारा कोरोना महामारी काल के दौरान शुरू किया गया संघर्ष फलीभूत हो रहा है. वहीं युवक के संघर्ष की चर्चा भागलपुर ही नहीं बिहार के अन्य जिलों के साथ झारखंड में भी हो रही है. (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement
Advertisement

चलिए अब आपको युवक का परिचय कराते हैं (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement
Advertisement

बेहद ही साधारण सा दिखनेवाला यह युवक बिहार के भागलपुर जिले के सन्हौला प्रखंड के एक छोटे से गांव पोठिया का रहनेवाला है. जिसका नाम सुमित आनंद चौधरी है. लॉकडाउन से पहले सुुमित भागलपुर के एक निजी मोटर व्हीकल शोरूम में काम कर अपना और अपने परिवार का भरण पोषण कर रहा था. चार बीघा की पैतृक संपत्ति औऱ निजी कंपनी में नौकरी कर  किसी तरह परिवार का गुजर बसर कर रहा था. सबकुछ ठीक- ठाक ही चल रहा था. अचान वैश्विक महामारी कोरोना ने देश में अपना जाल फैलाया और देश के बाकी राज्यों के मजदूरों की तरह सुमित को भी अपनी नौकरी गंवानी पड़ी, और उसने भी वापिस अपने गांव का रूख किया. परिवार का बोझ और सीमित संसाधन के बीच उसे ये नहीं सूझ रहा था कि आखिर आगे की जिदगी कैसे कटेगी. सवर्ण जाति का होने के कारण उसे सरकारी सुविधाएं मिलनी तो दूर उसे किसी प्रकार का कोई आर्थिक सहयोग भी नहीं मिल रहा था. (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement
Advertisement

संयुक्त परिवार के कारण बदली किस्मत (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement

बतौर सुमित उसके पिता एक किसान हैं, चार बीघा पैतृक संपत्ति में उसके बड़े पिताजी की भी हिस्सेदारी बनती है, लेकिन वे चुंकि सरकारी नौकरी करते थे औऱ उसके दो चचेरे भाई भी बाहर ही सेटल हैं, लेकिन हमेशा से परिवार के हर सुख- दुःख में खड़ा होने के साथ आर्थिक मदद भी किया करते हैं. सेवानिवृत हो चुके बड़े पिताजी के कहने पर बड़े भैया (चचेरे भाई) ने दो बीघा जमीन गांव में ही खरीदा. सुमित ने बताया कि वह नहीं चाहता था कि भैया भी पारंपरिक खेती करें. ऐसे में उसने अपने चचेरे भाई को सवा बीघा जमीन पर तालाब खुदवाकर मछली पालन करने की सलाह दी. लक्ष्य बड़ा था, पूंजी का अभाव, लेकिन बड़े भाई ने हामी भर दी. फिर क्या था सुमिन ने कोरोना महामारी के भीषण दौर यानी अप्रैल- मई के महीने में प्रचंड गर्मी औऱ कोरोना के कहर के बीच तालाब खुदाई में जुट गया और एक महीने के भीतर सवा बीघा के खेत में तालाब खुदवा कर मछली पालन के शुरू कर दिया. औऱ देखते ही देखते सुमित के इस धंधे ने आज पारंपरिक खेती करनेवाले किसानों के सामने एक नजीर पेश कर दी. आज सुमित द्वारा पाले गए सीलन मछली लगभग एक से सवा टन के आसपास हो चुके हैं, जिसका उत्पादन शुरू हो चुका है. सुमित के अनुसार लागत से तीन गुणा मुनाफा होने का अनुमान है. (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement

पूंजी बन रही था बाधा, इसलिए कम बजट के साथ शुरू किया कारोबार (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement

सुमित ने बताया कि तालाब खुदाई के बाद बोरिंग और अन्य जरूरी तैयारी में भैया के काफी पैसे लग गए. तालाब काफी बड़ा खुद गया उसमें काफी बड़े मात्रा में मछली पालन किया जा सकता है, लेकिन पूंजी के अभाव में केवल साढ़े दस हजार पीस (सीलन) पगास मछली का ही चारा डाल सके. साथ में देसी नस्ल  (रेहू, बी ग्रेड औऱ कतला) का चार भी कम मात्रा में डाले. सुमित ने बताया कि बड़े भैया की माली हालत को देखते हुए छोटे मोटे खर्च के लिए तालाब के बांध पर भिंडी की खेती की जिससे अच्छी खासी आमदनी हुई उससे छोटी मोटी जरूरते पूरी की गई. उसने बताया कि मछली के भोजन के रूप में हर दिन सात हजार खर्च आ रहे थे, जो छोटे किसानों के लिए ही नहीं बड़े- बड़े किसानों को भी सोचने पर विवश कर देगा. उसने बड़े भाई के जज्बे की सराहना करते हुए कहा कि वे मेरे आदर्श हैं, उन्होंने अपना सबकुछ दांव पर लगा दिया मुझे सफल बनाने में. सुमित के अनुसार देसी नस्ल की मचलिया फरवरी मार्च से निकलनी शुरू हो जाएंगी उसके बाद अगले सीजन में सीलन मछली का उत्पादन बड़े पैमाने पर किया जाएगा. (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement

ग्रामीणों का भी मिला भरपूर सहयोग (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement

सुमित ने बताया कि गांव में पहली बार पारंपरिक खेती का ट्रेंड शुरू किया जा रहा था, उसे लगा कि इतना बड़ा रिस्क लेने पर कहीं दांव उल्टा न पड़ जाए, लेकिन ग्रामीणों ने उसे हर कदम पर साथ दिया. रात- रात बर जगकर ग्रामीणों के साथ इस व्यवसाय को लेकर चर्चा करता था. ग्रामीण युवा उसे उत्साहित करते थे. उसके इस व्यवसाय से प्रभावित होकर दो चार औऱ युवा इस व्यवसाय में किस्मत आजमा रहे हैं. तीन- तीन छोटे- छोटे तालाब आज गांव में खुद चुके हैं और उसमें मछली पालन हो रहा है. सबसे बड़ी खुशी वैसे किसानों को हो रही है, जो सिंचाई के अभाव में खेती नहीं कर पाते थे. गांव में तीन-तीन तालाब खुद जाने से किसानों की सिंचाई की समस्या दूर हो गई है. (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement

विभाग का नहीं मिला अपेक्षित सहयोग (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement

सरकार किसानों को प्रोत्साहित करने का लाख दावा कर ले. मतस्य पालन को बढ़ावा देने का लाख ढिंढोरा पीट ले, लेकिन जमीनी हकीकत सुमित से जब हमने पूछा तो उसने बताया कि भैया ने प्रयास किया था विभाग से सहयोग लेने के लिए लेकिन कागजी प्रक्रिया और इतने बड़े तालाब के लिए जितने का अनुदान विभाग की ओर से मिला वह नाकाफी था. उसने बताया कि महज 65 हजार का अनुदान तालाब खुदाई के लिए मिला. मछली के चारा और उसके भोजन पर सब्सीडी विभाग द्वारा नहीं मिला, न ही अधिकारी एक बार भी तालाब का मुआयना करने ही पहुंचे. उसने बताया कि सरकार को ऐसे प्रोजेक्ट को बढ़ावा देने के लिए सक्षम अधिकारियों को बहाल करने होंगे, जो मतस्य पालको को समय- समय पर मार्गदर्शन कराने का काम करे. सबसे अहम ये कि जब मछली उत्पादन के लिए तैयार हो जाए तो उसे विभागी स्तर पर बाजार मुहैया करानी चाहिए ताकि किसानों को लागत के अनुसार कीमत मिल सके. खुद से बेचने पर बड़े व्यापारी कम कीमत में मछलियों का सौदा करते हैं. अधिक वक्त बीत जाने पर मछलियों के बीमार होने का खतरा बढ़ जाता है. कुल मिलाकर सुमित ने पारंपरिक खेती को छोड़ मतस्य पालन कर इलाके में नजीर पेश कर दी है. जो इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है. आस- पास के किसान अब सुमित से इस कारोबार से संबंधित जानकारी लेने पहुंच रहे हैं. सुमित भी किसानों को भरपूर सहयोग कर रहा है. अंत में सुमित अपने सफलता के पीछे अपने बड़े भाई को श्रेय देना नहीं भूलता.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Must Read

Jamshedpur : सोनारी में सिटी एसपी ने किया फ्लैग मार्च, अन्य खबरें एक क्लिक में

जमशेदपुर : जमशेदपुर के सोनारी थाना क्षेत्र में दो गैंग में गैंगवार के बाद स्थिति बेकाबू होता देख सिटी एसपी सुभाष चंद्र जाट ने...

Jamshedpur : वाह रे आदित्यपुर पुलिस ! घटना आदित्यपुर थाना क्षेत्र की, शव मिला आदित्यपुर थाना क्षेत्र में, कदमा में दर्ज किया गया मामला

जमशेदपुर/आदित्यपुर : सरायकेला-खरसावां जिले की आदित्यपुर पुलिस की अजीबो-गरीब कार्यशैली सामने आई है. बीते दिनों आदित्यपुर थाना क्षेत्र के टोल ब्रिज से खरकइ नदी...

tata-steel-founders-day-टाटा संस के एमिरट्स चेयरमैन रतन टाटा और चेयरमैन एन चंद्रशेखरन दो दिनों तक जमशेदपुर में रहेंगे, टाटा वर्कर्स यूनियन के लोगों से होगी...

जमशेदपुर : टाटा संस के एमिरट्स चेयरमैन रतन टाटा और चेयरमैन एन चंद्रशेखरन जमशेदपुर और टाटा स्टील के संस्थापक जमशेदजी नसरवानजी टाटा को श्रद्धांजलि...

Horoscope : आज का राशिफल, शनिवार, 27 फरवरी 2021 : जानें आज कैसा रहेगा आपका दिन

मेष : आपका तल्ख़ रवैया दोस्तों के लिए परेशानी पैदा कर सकता है। आज घर से बाहर बड़ों का आशीर्वाद लेकर निकलें इससे आपको...

Saraikela : बांधाढीपा नाबालिग ने फांसी लगा कर की आत्महत्या

चाकुलिया : सरायकेला-खरसावां जिले के सरायकेला थाना अंतर्गत बुंडू ग्राम के बांधाडीपा में एक 16 वर्षीय नाबालिग बुधराम बोदरा ने बरगद के पेड़ में...

Saraikela-Gamharia : गम्हरिया: जिलिंगगोड़ा घाट से कौन उठा रहा बालू, पुलिस क्यों है मौन

गम्हरिया : सरायकेला- खरसावां जिला में बालू माफिया पुलिस और प्रशासन को खुली चुनौती दे रहे हैं. एक घाट पर पुलिस- प्रशासन बालू माफियाओं...

Jamshedpur-Sonari-Firing-case : वर्ष 2011 में झाबरी बस्ती के शशि पासवान की हत्या के बाद भड़की दो बस्तियों के बीच वर्चस्व की चिंगारी, उसी का...

जमशेदपुर : जमशेदपुर के सोनारी में दो मोहल्ले निर्मलनगर और झाबरी बस्ती के बीच शुरू हुई वर्चस्व की लड़ाई की आग आज तक सुलग...

Today’s-history:जानें आज का इतिहास

1557- लंदन में रूस का दूतावास खोला गया था. 1594 - हेनरी IV फ्रांस का राजा बने थे. 1879- रूसी रसायनशास्त्री कॉन्सटैंटिन फालबर्ग ने आर्टिफिशियल स्वीटनर...

Jamshedpur-accident : अज्ञात वाहन ने बाइक को मारी टक्कर, बाइक चालक की मौत

जमशेदपुर : जमशेदपुर के मानगो थाना अंतर्गत मानगो चौक के पास शुक्रवार देर रात एक अज्ञात वाहन ने बाइक सवार को अपनी चपेट में...

jamshedpur- rural- चाकुलिया में मारवाड़ी महिला समिति के रक्तदान शिविर में 21 यूनिट रक्त संग्रह, लोगों ने बढ़- चढ़कर लिया हिस्सा

चाकुलिया : चाकुलिया मारवाड़ी महिला समिति के तत्वावधान में नया बाजार धर्मशाला प्रांगण में रक्तदान शिविर आयोजित हुआ. शिविर में 21 लोगों ने रक्तदान...

Related Articles

jamshedpur-pays-tribute-to-azad-जमशेदपुर में नमन ने दी वीर शहीद चंद्रशेखर आजाद को श्रद्धांजलि, संस्थापक काले बोले-वीर क्रांतिकारी चंद्रशेखर आज़ाद हमारे दिलों में बसते है

जमशेदपुर : जमशेदपुर के सामाजिक संस्था नमन के संस्थापक अमरप्रीत सिंह काले ने कहा कि शहीद चन्द्रशेखर आजाद की जीवनी देशप्रेम, वीरता, साहस, दृढ़ता...

jamshedpur-ram-mandir-सिदगोड़ा के श्रीराम मंदिर के प्रथम वर्षगांठ पर विधुत एवं पुष्पसज्जा से नहाया सूर्य मंदिर धाम, प्रारंभ हुआ सम्पूर्ण रामायण पाठ

जमशेदपुर : जमशेदपुर के सिदगोड़ा स्थित सूर्य मंदिर परिसर में बने भव्य श्रीराम मंदिर की पहली वर्षगांठ हर्षोल्लास के साथ मनायी गयी. सुबह से...

Jamshedpur-Eye-Camp : जेएन टाटा की जयंती पर रेड क्रॉस सोसाइटी व जेमिपॉल का संयुक्त नेत्र शिविर आरंभ, 106 रोगियों की आंखों की हुई जांच,...

जमशेदपुर : जमशेदजी नसरवान जी टाटा के 182वें जयंती समारोह की तैयारियों में जहां शहर के चौक-चौराहों पर रौशनी की लड़ियां लगायी जा रही...

Jamshedpur : अपनी बच्चियों को कानून के प्रति जागरूक व खुलकर बात करें माताएं : राजीव रंजन सिंह

जमशेदपुर : सुभाष युवा मंच के द्वारा शनिवार को ‘महिला सुरक्षा चुनौती एवं समाधान’ विषयक व्याख्यानमाला का आयोजन एक्सएलआरआई प्रेक्षागृह में संस्था के संस्थापक...

Jamshedpur-rural : चौठिया गांव में घर में लगी आग, हजारों का नुकसान

चाकुलिया : चाकुलिया प्रखंड की बड़ामारा पंचायत के चौठिया गांव निवासी लेम्बो मुर्मू के घर में शनिवार को अचानक आग लगने से घर समेत...

Jamshedpur-rural : बहरागोड़ा में सामूहिक विवाह समारोह के लिए पंडाल का हुआ भूमि पूजन, गरीब बेटियों का विवाह कराना हमारी सामाजिक जिम्मेदारी : डॉ...

बहरागोड़ा : बहरागोड़ा के शाखा मैदान परिसर में 5 मार्च को आयोजित होने वाली सामूहिक विवाह कार्यक्रम के पंडाल निर्माण के लिए शनिवार को...

Saraikela : टाटा-कांड्रा मेन रोड पर कार को आधा किलोमीटर तक घसीटते हुए ले गया ट्रक, फिर क्या हुआ कार में बैठे लोगों का-पढ़ें

Saraikela : सरायकेला खरसावां जिला से होकर गुजरने वाली टाटा कांड्रा मुख्य मार्ग पर शनिवार को एक और सड़क हादसा हुआ वैसे ऊपर वाले...

jamshedpur- rural- चाकुलिया में मारवाड़ी महिला समिति के रक्तदान शिविर में 21 यूनिट रक्त संग्रह, लोगों ने बढ़- चढ़कर लिया हिस्सा

चाकुलिया : चाकुलिया मारवाड़ी महिला समिति के तत्वावधान में नया बाजार धर्मशाला प्रांगण में रक्तदान शिविर आयोजित हुआ. शिविर में 21 लोगों ने रक्तदान...

jamshedpur-crime-news- मानगो में महिला से लूट मामले में पांच अपराधी गए जेल, पुलिस ने एक देसी पिस्टल के चार जिंदा गोली किया बरामद

जमशेदपुर:जमशेदपुर के मानगो थाना अंतर्गत रोड नंबर 17 में फरहत यास्मीन के घर पर घुसकर लूट करने के मामले में पुलिस ने पांच अपराधियों...

jamshedpur- rural-आंगनबाड़ी सेविका- सहायिकाओं ने विधायक समीर महंती का किया घेराव, मांग पत्र सौंपा, विधायक ने कहा- सीएम से मिलकर करेंगे समस्याओं का निदान

चाकुलिया : चाकुलिया प्रखंड की विभिन्न पंचायतों के गांव में संचालित आंगनबाड़ी केन्द्र की सेविका और सहायिकाओं ने अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत...

Jamshedpur-weather-लगातार मौसम में उतार-चढ़ाव के साथ 1 मार्च को सप्ताह का सबसे गर्म दिन होने की संभावना

जमशेदपुर : जमशेदपुर में इन दिनों तापमान में लगातार उतार-चढ़ाव हो रहा है. वहीं दिन में गर्मी के साथ रात में ठंड जैसा मौसम...

jamshedpur-theft- in-Sakchi- साकची में बाइक चोरी करते रंगे हाथ धराया चोर, पुलिस ने भेजा जेल

जमशेदपुर: जमशेदपुर के साकची थाना अंतर्गत जल चौक के पास वाटर वर्क्स रोड पर बाइक चोरी करते एक चोर को स्थानीय लोगों ने रंगे...
Don`t copy text!