West-Singhbhum : बड़ानन्दा-डांगुवापोसी सड़क निर्माण के लिए अधिग्रहित जमीन का रैयतों को चार साल बाद भी नहीं मिला मुआवजा, कहा-जब तक मुआवजा का भुगतान नहीं, तब तक सड़क निर्माण कार्य रहेगा बंद

Advertisement
Advertisement

Chaibasa : पिछले चार साल से पीडब्लूडी के द्वारा बनायी जा रही बड़ानन्दा-डांगुवापोसी सड़क का निर्माण कार्य न आज तक पूरा हुआ और न ही क्षेत्र के रैयतदारों द्वारा दी गई जमीन का मुआवजा दिया गया। मुआवजा नहीं मिलने के कारण शनिवार को ग्रामीणों नें कृष्णा सिंकू की अध्यक्षता में एक आपात बैठक की, जिसमें विभाग के खिलाफ आंदोलन की रणनीति तैयार की गई। वहीं ग्रामीणों का गुस्सा पीडब्लूडी विभाग के विरुद्व फूटा और कहा कि अब कि आश्वासन से काम नहीं चलेगा। पहले मुआवजा दें, नहीं तो सड़क नहीं बनेगी। ज्ञात हो की जगन्नाथपुर अनुमंडल मुख्यालय के बड़ानन्दा से डांगुवापोसी की ओर जाने वाली करीब आठ किमी जर्जर सड़क का निर्माण कार्य पीडब्लूडी विभाग के द्वारा वर्ष 2017 से कराया जा रहा है, जो अभी तक पूर्ण नहीं हो पाया है।

Advertisement
Advertisement

ग्रामीणों नें कहा कि बड़ानन्दा से डांगुवापोसी जाने वाली सड़क का निर्माण कराने के सरकार के द्वारा रैयतदारों की जमीन अधीग्रहण कर ली गयी, लेकिन आज तक मुअवजा नहीं दिया गया। मुआवजे की मांग को लेकर रैयत और ग्रामीणों की एक बिशेष बैठक हुई, जिसमें सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि रैयतों को जब तक मुआवजा का सरकार द्वारा भुगतान नहीं किया जाता है, तब तक सड़क निर्माण कार्य पूर्ण रूप से बाधित रहेगा। बैठक में मनोज सिरका, किशोर सिंकू, राम बोबंगा, भगवान लागुरीबामिया गोप, साजन सिंकू, बिंदराय सिंकू, घनश्याम सिंकू, बाबुलाल सिंकू, सुभाष चंद गोप, सोमनाथ सिंकू, बुधराम लागुरी, सचिन आंगरिया, भीमसेन केराई, गोपाल कृष्णा गोप, सदानन्द बोबंगा, संतोष कुमार गोप समेत काफी संख्या में रैयत और ग्रामीण उपस्थित थे।

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply