jharkhand election 2019-सरायकेला से भाजपा नेता गणेश महाली की दावेदारी पर मंडल अध्यक्षों ने लगाई मुहर, टिकट मिलना तय

Advertisement
Advertisement

सरायकेला : रांची में संपन्न हुए भाजपा मंडल अध्यक्षों की बैठक ने सरायकेला विधानसभा सीट के लिए सुझाए गए नामों में पूर्व प्रत्याशी और जिला महामंत्री गणेश महाली रेस में सबसे आगे बताए जा रहे हैं. आरआईटी और गम्हरिया मंडल अध्यक्ष को छोड़ बाकी सभी मंडलों के अध्यक्षों ने गणेश महाली के नाम का प्रस्ताव शीर्ष नेतृत्व को दिया है. वही रमेश हांसदा और अनंत राम टुडू रेस से बाहर बताए जा रहे हैं. आपको बता दें कि चुनाव से ठीक पहले क्षेत्र में रमेश हांसदा और अनंत राम टुडू सक्रिय देखे जा रहे थे, लेकिन मंडल अध्यक्षों द्वारा सौंपी गई रिपोर्ट के बाद गणेश महाली दौड़ में सबसे आगे चल रहे हैं. वैसे बीते 5 सालों से क्षेत्र में गणेश महाली लगातार सक्रिय भूमिका में रहे हैं. इतना ही नहीं पूरी तत्परता के साथ क्षेत्र के हर कार्यक्रमों में शरीक भी हुए हैं और अपने स्तर से जो भी बन पड़ा उन्होंने जनता की अपेक्षाओं को पूरा किया है. हालांकि संघ अभी भी गणेश मोहाली के नाम पर दुविधा में है. वैसे पिछले बार के चुनाव में संघ के विरोध का खामियाजा गणेश महाली को उठाना पड़ा और बेहद ही मामूली अंतर से झामुमो नेता चंपई सोरेन से हार का सामना करना पड़ा था. उधर आरआईटी और गम्हरिया मंडल की नाराजगी इस बात को लेकर भी है कि गणेश मोहाली आरआईटी और गम्हरिया में सक्रिय नहीं रहे. हालांकि सूत्र बताते हैं कि इसके पीछे मेयर विनोद श्रीवास्तव की अहम भूमिका है. अनंतरा टुडू मेयर विनोद श्रीवास्तव के काफी करीबी माने जाते हैं. वैसे अनंतराम टुडू संथाल नेता के तौर पर भाजपा के लिए तुरुप का इक्का साबित हो सकते हैं, लेकिन खुद राजनगर मंडल अध्यक्ष ने अनंतराम टुडू के नाम पर सहमति नहीं जताई, जबकि राजनगर में बीते 5 सालों में गणेश महाली ने अपनी एक अलग पहचान बनाई है. हालांकि पिछले चुनाव में राजनगर क्षेत्र से कम वोट मिलने के कारण उन्हें नुकसान उठाना पड़ा था. ऐसे में देखना ये दिलचस्प होगा कि आरआईटी और गम्हरिया मंडल अध्यक्षों के विरोध का गणेश माली के भाग्य पर क्या असर डालता है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement