जमशेदपुर पूर्वी में झारखंड विकास मोरचा खोलेगा सरकार की पोल, झारखंड के प्रथम मुख्यमंत्री लेंगे हिस्सा, 13 अक्तूबर को होगी जनसभा

Advertisement
Advertisement
संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते नेतागण.

जमशेदपुर : झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के विधानसभा क्षेत्र जमशेदपुर पूर्वी में झारखंड विकास मोरचा ने ताकत लगा दी है. मोरचा के केंद्रीय महासचिव अभय सिंह पार्टी के प्रत्याशी रहे है और इस बार भी उन पर ही दावं पार्टी लगा सकती है. यहीं वजह है कि 13 अक्तूबर को मोरचा की ओर से सरकार के खिलाफ हल्ला बोलने की तैयारी की गयी है. इसकी जानकारी मोरचा के जिला अध्यक्ष बबुआ सिंह ने संवाददाता सम्मेलन कर इसकी तैयारियों की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि 13 अक्टूबर को रघुवर सरकार के कुशासन एवं गलत नीति के खिलाफ जमशेदपुर के बागुनहातू फुटबॉल ग्राउंड में शाम तीन बजे एक विशाल जनसभा आयोजित की गई है. इस जनसभा में मुख्य अतिथि के रूप में झारखंड के प्रथम मुख्यमंत्री झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी उपस्थित रहेंगे एवं सम्मानित वक्ता के रूप में प्रखर वक्ता पार्टी के केंद्रीय महासचिव गरीबों की आवाज अभय सिंह उपस्थित रहेंगे. जिला अध्यक्ष बबुआ सिंह ने कहा कि 86 बस्ती को मालिकाना के नाम पर मुख्यमंत्री ने यहां के लोगों को गुमराह किया है, जिसका जनसभा के माध्यम से पोल खोलने का काम पार्टी सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी करेंगे. जिला अध्यक्ष बबुआ सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री 2014 के चुनाव के पूर्व यहां की जनता से वादा किए थे जो हमारी सरकार बनेगी तो यहां पर कारपोरेट घरानों में यहां के बेटे-बेटियों को नौकरी दिलायेंगे. मुख्यमंत्री ने कहा था कि यहां के असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को न्यूनतम मजदूरी 350 रुपये दिलाएंगे. रघुवर दास की सरकार बनेगी तो एमजीएम अस्पताल को आधुनिक अस्पताल बनाने का काम करेंगे. उन्होंने कहा था कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनेगी तो केबुल कंपनी को चालू करा देंगे. गरीब भाई और बहनों को रोजगार मुहैया कराएंगे, लेकिन 5 वर्ष बीत जाने के बाद मुख्यमंत्री ने वादाखिलाफी की है. वर्ष 2014 में कुकिंग गैस का दाम 350 रुपये था जो आज लगभग 900 रुपये हो गया है, जिस प्रकार मोहरदा जलापूर्ति योजना लंबे अरसे से लंबित चली आ रही है, आज बिरसानगर की गरीब जनता को गंदे पानी पीने के लिए मजबूर किया जा रहा है. टाटा मोटर्स में बाइ सिक्स कर्मचारियों को नियमित नौकरी नहीं जबकि अपने दो चहेते कार्यकर्ता के पुत्र को नियमित नौकरी कराई गई, जो यहां के बाइ सिक्स कर्मचारियों के बीच में आक्रोश है. इन सारी बातों को लेकर 13 अक्टूबर को पार्टी के सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी एवं अन्य वक्ता के रूप में केंद्रीय महासचिव अभय सिंह सरकार का पोल खोलने का काम करेंगे. बबुआ सिंह ने बताया कि यह कार्यक्रम पूर्वी विधानसभा के लिए मील का पत्थर साबित होने वाली है. संवाददाता सम्मेलन में जिला उपाध्यक्ष विद्युत साव, जिला सचिव रवि पाण्डेय, भूषण दीक्षित, बच्चे लाल भगत उपस्थित थे.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement