jamshedpur-bjp-attacks-minister-जमशेदपुर भाजपा के नेता अभय सिंह ने फिर से मंत्री बन्ना गुप्ता पर साधा निशाना, कहा-जब आपकी बात ही अधिकारी या कंपनी नहीं सुनती तो मंत्री पद पर क्यों है?

राशिफल

जमशेदपुर : जमशेदपुर भाजपा के वरिष्ठ नेता अभय सिंह ने प्रेस बयान जारी कर कहा है कि झारखंड सरकार के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता द्वारा जिस प्रकार का बयान दिया गया है, यह झारखंड सरकार की दुर्बलता एवं कमजोरी को दर्शाता है कि सरकार भी प्रयास कर रही है जुबली पार्क का गेट खुले ? अभय सिंह ने कहा कि वे मंत्री से पूछना चाहते है कि वे इस क्षेत्र के स्वास्थ्य मंत्री हैं, सरकार के मंत्री हैं, पश्चिम के विधायक हैं और आपके विधानसभा क्षेत्र में आज 2 वर्ष से जुबली पार्क गेट बंद है, क्या आपने कभी भी अधिकृत बयान आया है कि आखिर किन कारणों से या जमशेदपुर का हृदय स्थल जुबली पार्क बंद है. क्या आज 2 वर्षों से अगर बंद था तो जिला प्रशासन कोई भी कारण बताए बिना बंद रहा ? अभय सिंह ने कहा कि यह कितनी शर्मसार की बात है कि एक क्षेत्र का मंत्री, अपने क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता है, वह लाचार स्थिति में खड़ा है अपाहिज स्थिति में खड़ा है ? बयान ने यह साबित कर दिया कि दाल में कुछ काला है. अगर जमशेदपुर की जनता जमशेदपुर के कुछ लोग अगर यह मामला जमशेदपुर का नहीं उठाते तो मंत्री अपने कुकृत्य में सफल हो जाते ? क्या यह हो सकता है कि क्षेत्र के प्रतिनिधि को बिना बताए सड़क बंद कर दिया गया ? सड़क 2 वर्ष से बंद था, अभय सिंह ने कहा कि वे मंत्री से आग्रह करना चाहते है कि वे एक डेट लाइन निर्धारित करें आखिर कब खुल रहा है ? लोगों ने जुलूस निकाला, लोगों ने प्रदर्शन किया, लोगों ने सूचना के अधिकार के तहत जवाब मांगा, लेकिन जनप्रतिनिधि का क्या कर्तव्य होता है या आप बताने का प्रयास नहीं किए इसलिए आज हम आपसे यह पूछना चाहते हैं कि अगर आपकी बात कोई नहीं सुनता है तो ऐसे मंत्री पद को तिरस्कार करें और जनता के बीच में आकर के जुबिली पार्क के हल के लिए लड़ाई लड़े. हक के लिए लड़ाई लड़े. नागरिक सुरक्षा मंच हो या जमशेदपुर के नागरिक इस मामले में पीछे बिल्कुल नहीं हटेंगे सड़क से लेकर हाईकोर्ट तक लड़ाई लड़ेंगे. मंत्री का असली चेहरा उजागर हो चुका है, जब खुद ही न्याय देने वाले लोग अगर गुनाह के कगार में खड़े हो जाएं तो यह होना लाजमी है यह स्वभाविक है इनकी कलई खुल चुकी है.

Must Read

Related Articles