jamshedpur-bjp-जमशेदपुर में भाजपा ने शहीद डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की याद में मनाया बलिदान दिवस, भाजपाइयों ने दी श्रद्धांजलि

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : जनसंघ के संस्थापक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मंगलवार को पुण्यतिथि है. आपको बता दें कि 23 जून 1953 को कश्मीर के अब्दुल्ला कारागार में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की रहस्यमई मौत हो गई थी. उसके बाद से लेकर आज तक भारतीय जनता पार्टी जनसंघ के संस्थापक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के पुण्यतिथि को बलिदान दिवस के रूप में मना रही है. इधर इस मौके पर जमशेदपुर में भी भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें भावभिनी श्रद्धांजलि देते हुए उनके बताए आदर्शो पर चलने की प्रेरणा ली. वही इस संबंध में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बताया कि डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने भारत की अखंडता का सपना देखा था. उनके सपनों को पीएम मोदी ने साकार करते हुए एक देश, एक कानून और एक ध्वज वाला देश बनाने का काम किया है. उन्होंने बताया कि 70 साल पहले देखा गया सपना आज पूरा हो रहा है. जिससे डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के आत्मा को शांति मिल रही होगी. उन्होंने डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी को युवाओं का प्रेरणास्रोत बताया. वहीं भारतीय जनता पार्टी जमशेदपुर महानगर के जिला अध्यक्ष दिनेश कुमार ने भी डॉ श्यामा प्रसाद के बलिदान से युवा पीढ़ी को सबक लेने की जरूरत बताई. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के कारण आज एक देश, एक कानून का सपना साकार हो रहा है.

Advertisement
Advertisement

सोनारी में दी गयी श्रद्धांजलि
जमशेदपुर के सोनारी स्थित खूंटाडीह में सोनारी मंडल की ओर से स्वर्गीय डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी का बलिदान दिवस मनाया गया. इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से संजीव सिन्हा, अबू अशरफ, अजय रजक, बुद्धेशवर कर्मकार, लक्ष्मी कर्मकार, संजय रजक, विक्की सिंह, अभिषेक डे, चिंटू, राजा, मालती कर्मकार, पूजा कर्मकार, जी शंकर दास, सुमित कुमार गुप्ता, प्रकाश समेत अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे. सभी ने स्वर्गीय श्यामा प्रसाद मुखर्जी की तस्वीरपर माल्यार्पण भी किया.

Advertisement

बिष्टुपुर मंडल ने दी शहीद को श्रद्धांजलि
भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ दिनेशानंद गोस्वामी ने कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित नेहरू की गलत नीतिओं के कारण कश्मीर समस्या उत्पन्न हुआ. पंडित नेहरू एवं शेख अब्दुल्ला की सहमति के तहत जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा दिया गया. धारा 370 लागू किया गया. कश्मीर का अपना अलग संविधान तथा अलग झंडा का प्रावधान हुआ. जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री को प्रधानमंत्री कहलाने की व्यवस्था बनी. जम्मू कश्मीर जाने के लिए विशेष अनुज्ञा लेने की व्यवस्था बनी. भारतीय जनसंघ तथा डॉ मुखर्जी को ये मान्य नहीं थे. एक देश- एक विधान, एक प्रधान तथा एक निशान के नारों के साथ डाॅ मुखर्जी के नेतृत्व में देशव्यापी आन्दोलन हुआ. आन्दोलन के परिणामस्वरूप कश्मीर जाने के लिए अनुज्ञा लेने की व्यवस्था समाप्त हुई. गत वर्ष प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाला धारा 370 समाप्त कर डॉ मुखर्जी के सपनों को साकार किया है. डॉ गोस्वामी ने पार्टी के बिष्टुपुर मंडल द्वारा आयोजित डॉ श्यामाप्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस समारोह को संबोधित संबोधित कर रहे थे. डॉ गोस्वामी ने कहा कि पाक अधिकृत कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है. पंडित नेहरू की ढुलमुल रवैये के कारण भारत का बड़ा भू-भाग पाकिस्तान एवं चीन के कब्जे में है. सन् 1959 में जब चीन तिब्बत पर आक्रमण किया, उस समय पंडित दीनदयाल उपाध्याय के सुझावों पर अगर पंडित नेहरू तिब्बत का साथ दिए रहते तो चीन की साम्राज्यवादी नीतियों पर लगाम लग जाता. चीन भी सन् 1962 का भारत न समझे. अब सन् 2020 का नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाला भारत है. भारत से टकराव का अंजाम चीन समझ ले तथा अपनी बर्बादी की कहानी लिखना शुरू करे. डॉ गोस्वामी ने कार्यकर्ताओं से डॉ मुखर्जी के विचारों को आत्मसात करते हुए देश की एकता, एकात्मता, अखंडता तथा सार्वभौमिकता को अक्षुण्ण बनाए रखने में प्रमुख भूमिका निभाने का आह्वान किया. समारोह को पूर्व महानगर अध्यक्ष तथा जमशेदपुर पश्चिम के पूर्व प्रत्याशी देवेन्द्र सिंह ने भी संबोधित किया. इस अवसर पर महिला मोर्चा अध्यक्ष नीरू सिंह, पूर्व मंडल अध्यक्ष ललन द्विवेदी, मंडल महामंत्री संजय तिवारी सहित मंडल के कार्यकर्ता बड़ी संख्या में उपस्थित थे.

Advertisement

साकची में भाजपा ने दी श्रद्धांजलि
शहीद श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस के उपलक्ष में साकची में भारतीय जनता पार्टी के युवा नेता रॉकी सिंह के नेतृत्व में श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी को श्रद्धांजलि अर्पित की गई. साथ ही साथ साफ सफाई करने वाले कर्मचारी को मास्क दिया गया और उनका धन्यवाद भी दिया गया कि दिन रात जिस तरह से कोरोना महामारी में हमारे इर्द-गिर्द इतनी साफ-सफाई रखती हैं, उनके लिए उन्हें बहुत-बहुत धन्यवाद किया गया एवं राहगीरों को मास्क देकर जागरूकता अभियान चलाया गया. डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी को श्रद्धांजलि के रूप अर्पित एक अभियान चलाया गया, जिसमें लोगों को जागरूक किया गया कि वह अपने घर से निकले तो मास्क जरूर पहने और लोगों के बीच मास्क का वितरण भी किया गया. 100 की संख्या में मास्क का वितरण किया गया, जिसमें मुख्य रूप से भाजपा युवा नेता रॉकी सिंह, ऋषिकांत गुप्ता, अमन, ऋषि, कुणाल, प्रेम, आकाश, हिमांशु, अमित मुख्य रूप से उपस्थित थे.

Advertisement

डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस पर भरत सिंह ने दी श्रद्धांजलि
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश के निर्देशानुसार भाजपा के वरिष्ठ नेता से जमशेदपुर के समाजसेवी भरत सिंह ने भी अपने साकची कार्यालय में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की याद में बलिदान दिवस मनाया एवं डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की तस्वीर पर फल-फूलों का हार चढ़ाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. श्री सिंह ने कहा कि अखंड भारत का जो सपना था, उसकी चिंगारी सबसे पहले डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने ही जलाई थी जिसे धारा 370 को हटाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने पूरा किया. भाजपा सदैव ही इस भारत देश के हित में कार्य करती आई है और आगे भी करती रहेगी. इस कार्यक्रम में श्री सिंह के साथ मनोज सोनी, एसपी सिंह, शक्ति सिंह, राम उदय ठाकुर, दशरथ शुक्ला, बाबू भाई, गोपी सिंह, मोइन खान, राजेश सिंह, मोहम्मद फिरोज आलम, राहुल सिंह, शशिकांत सिंह, अमन शर्मा, धरमू शर्मा, रमेश मुंडा, जीतू शर्मा आदि सहयोगी उपस्थित थे.

Advertisement

जमशेदपुर भाजपा ने मनाया बलिदान दिवस
भाजपाइयों ने डॉ मुखर्जी की पुण्यतिथि को बलिदान दिवस के रूप में मनाया, लगाए ओजस्वी नारे
भारतीय जनसंघ के संस्थापक, प्रखर राष्ट्रवादी डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के 67वें पुण्यतिथि को जमशेदपुर महानगर कमिटी ने ‘बलिदान दिवस’ के रूप में मनाया. मंगलवार को जमशेदपुर महानगर अध्यक्ष दिनेश कुमार के नेतृत्व में भाजपाइयों ने साकची कुलसी रोड स्थित जिला कार्यालय में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के चित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. इस दौरान कार्यकर्ताओं ने ‘श्यामा प्रसाद मुखर्जी अमर रहे’ , ‘जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है’ एवं ‘भारत माता की जय’ जैसे ओजस्वी नारे लगाए. इस अवसर पर महानगर अध्यक्ष दिनेश कुमार ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने हमेशा संसद से लेकर सड़क तक और दिल्ली से लेकर श्रीनगर तक भारतीय संविधान के विभाजनकारी प्रावधान-अनुच्छेद 370 और 35 ए का पुरज़ोर विरोध किया और अपने जीवन के आखिरी और निर्णायक लड़ाई भी इस चक्रव्यूह को तोड़ने की लड़ी. “एक निशान, एक विधान और एक प्रधान” का नारा देकर उन्होंने अखण्ड भारत का सपना देखा था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार ने धारा 370 निरस्त कर डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के सपने को साकार किया. पार्टी ने विपरीत परिस्थितियों में भी अपने सिद्धांतों और विचारधारा से समझौता नही किया और कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बनाया, आज उनके बलिदान दिवस पर करोड़ो भाजपा कार्यकर्ताओं का मस्तक ऊंचा हुआ है. उन्होंने बताया कि जमशेदपुर महानगर अंतर्गत सभी मंडलों में मंडल अध्यक्ष के नेतृत्व में बलिदान दिवस मनाते हुए डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी को श्रद्धासुमन अर्पित किया गया. इस दौरान महानगर अध्यक्ष दिनेश कुमार, मिथिलेश सिंह यादव, देवेंद्र सिंह, नंदजी प्रसाद, हलधर नारायण साह, गुंजन यादव, कुलवंत सिंह बंटी, जटाशंकर पांडेय, भूपेंद्र सिंह, अनिल मोदी, राकेश सिंह, सुनील बारी, विमलकांत झा, विमल जालान, अमरजीत सिंह राजा, विमल बैठा, कमलेश सिंह, अजय सिंह, ज्योति अधिकारी, लीना चौधरी, नीलू झा, सीमा जायसवाल, दीपू सिंह, विनोद गुप्ता, रमेश नाग, गौतम प्रसाद, सुमित शर्मा, मुकेश ठाकुर, शिवजी प्रसाद, पवन सिंह, सुरेश शर्मा, इंद्रजीत सिंह, धनेश्वर सिंह, के एन ओझा, अमित सिंह समेत अन्य भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित थे.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement

Leave a Reply