jamshedpur-east-politics-जमशेदपुर भाजपा ने विधायक सरयू राय पर बोला हमला, कहा-जिन भाजपाइयों की बदौलत उनकी पहचान बनी, वही कार्यकर्ता उनकी आंखों में चुभने लगे, सरयू की पार्टी भारतीय जनता मोर्चा के लोगों में भारी गुस्सा, कहा-दर्ज हो सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने समेत अन्य धाराओं में केस, राजनीतिक दलों को समझना होगा कि हारे हुए विधायक को सरकारी कार्यक्रम में नहीं बुलाया जाता

Advertisement
Advertisement
भाजपा के जमशेदपुर महानगर महामंत्री राकेश सिंह.

जमशेदपुर : भाजपा जमशेदपुर महानगर महामंत्री राकेश सिंह ने पूर्वी विधायक सरयू राय को नकारात्मक राजनीति का प्रणेता बताया. शनिवार शाम जारी प्रेस-विज्ञप्ति में राकेश सिंह ने कहा कि विधायक सरयू राय की राजनीति कभी जनता के मुद्दों पर ना होकर हमेशा नकारात्मक बिंदुओं पर केंद्रित रही है. उन्होंने सरयू राय द्वारा भाजपा कार्यकर्ताओं को चुनौती देने के मामले में कहा कि वर्ष 2005 में यही भाजपा कार्यकर्ताओं ने उन्हें सरआंखों पर बैठाकर ‘फर्श से अर्श’ तक पहुंचाया. कभी उनकी पहचान का आधार रहे भाजपा कार्यकर्ताओं के लिए आज अपशब्द का प्रयोग करना एवं उनके पुरुषार्थ को ललकार उन्हें चुनौती देना आश्चर्यजनक है. राकेश सिंह ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष समेत राष्ट्रीय अध्यक्ष को चिट्ठी लिखने पर कहा कि सरयू राय बताए कि किस हैसियत से भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष को चिठ्ठी लिख रहे हैं. बताएं कि वे किस दल के विधायक हैं ? भाजपा कार्यकर्ताओं को विधायक सरयू राय द्वारा चुनौती देने पर कहा कि तथाकथित विद्वान व्यक्ति के मुख से ऐसी भाषा शोभा देती है क्या! भाजपा कार्यकर्ताओं को चुनौती देने से पहले उन्हें अपनी जमीर देखनी चाहिए. महामंत्री राकेश सिंह ने कहा कि विधायक सरयू राय के सभी चुनौतियों को स्वीकार करता हूँ, भाजपा का एक छोटा सिपाही हूँ और पार्टी और पार्टी कार्यकर्ताओं के खिलाफ अपशब्द और अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करने वाले वैसे सभी लोग चाहे वे, कितनी बड़ी पहचान रखते हों, उनके ख़िलाफ़ आवाज बुलंद करता रहूंगा. ये जेल-बेल की गीदर भभकी से पीछे नहीं हटूंगा.

Advertisement
Advertisement
Advertisement
भारतीय जनता मोर्चा की बैठक की तस्वीर.

सरयू के कार्यकर्ताओं में भारी गुस्सा, दर्ज हो सरकारी कार्य में बाधा का केस
विधायक सरयू राय की पार्टी भारतीय जनता मोर्चा जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा क्षेत्र के सभी मंडल संयोजको की बैठक विधानसभा संयोजक अजय सिन्हा की अध्यक्षता में आयोजित की गई. बैठक में पिछले दिनों बिरसानगर जोन 6 में सरकारी योजनाओं के उद्घाटन कार्यक्रम को बाधित करने का कार्य एक राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं द्वारा किया जाने को लेकर विचर्श विमर्श किया गया और भाजपा कार्यकर्ताओं की ओछी राजनीति की निंदा की गयी. यह एक सरकारी कार्यक्रम था जो जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति तथा विशेष प्रमंडल, ग्रामीण विकास विभाग के द्वारा आयोजित किया गया था. उक्त कार्यक्रम को बाधित करने हेतु एक राजनीतिक दल के कार्यकर्ता पूर्व विधायक के इशारे पर बाधित करने का प्रयास किया तथा भारत सरकार द्वारा निर्देशित ‘दो गज की दूरी मास्क है जरूरी’ की धज्जियां उड़ाते हुए अपने कार्यकर्ताओं को अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित होने का सोशल मीडिया के द्वारा अभियान चलाया. सरकारी अधिकारियों की उपस्थिति में जिस तरह से इस राजनीतिक दल के कार्यकर्ता ने अपने व्यवहार का प्रदर्शन किया वह निंदनीय है लेकिन उपस्थित सरकारी अधिकारी के द्वारा सरकार के द्वारा आयोजित कार्य में बाधा डालने के बावजूद उनके साथ गले मिलने में लगे हुए थे. इस तरह के सरकारी अधिकारी जहां आम जनता के ऊपर कानून का डंडा चलाते हैं वही इस तरह की भीड़ को देखकर भी उन्हें इस कोविड काल में नियम संगत कार्रवाई करने में हिचकिचाहट होती है. बैठक में सर्वसम्मति से जिला प्रशासन से मांग की गई कि उस दिन की घटना की उच्चस्तरीय जांच कराई जाए कि इस कोरोना काल मे किस तरह एक राजनीतिक दल के द्वारा संख्या बल का प्रदर्शन किया गया और वहां उपस्थित सरकारी अधिकारी के द्वारा उनके ऊपर कोई कार्यवाही न करना अपने आप में एक प्रश्न चिन्ह उत्पन्न करता है. उस दिन जिस तरह से उस राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं की भीड़ जुटाई गई थी वह कहीं ना कहीं जानबूझकर कार्यक्रम को बाधित करने और विधायक सरयू राय को बदनाम करने की एक गहरी साजिश थी. उस राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं को ज्ञात होना चाहिए कि उनके नेता को जमशेदपुर पूर्वी क्षेत्र की जनता ने नकार दिया है और उन्हें हार स्वीकार करना चाहिए. लेकिन हार स्वीकार ना करके वह नए-नए प्रपंच रचने में ही अपना समय बर्बाद कर रहे हैं. उन्हें सरकार के नियम का भी ख्याल रखना चाहिए की हारे हुए विधायक द्वारा सरकारी कार्य का उद्घाटन नहीं किया जाता है अगर सरकार के द्वारा कहीं प्रावधान है तो अवश्य उन्हें शामिल कर लिया जाए हम लोगों को कोई आपत्ति नहीं होगी. लेकिन अगर इस तरह की ओछी हरकत करने का प्रयास करेंगे तो भारतीय जनता मोर्चा मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार है. भारतीय जनता मोर्चा जिला प्रशासन से मांग करती हैं कि अविलंब वहां उपस्थित उस राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं के ऊपर सरकारी कार्य में बाधा डालने का मुकदमा दर्ज किया जाए. सिर्फ एक व्यक्ति के ऊपर एक दिखावे के लिए मुकदमा दर्ज करना प्रशासन की विफलता ही दिखाती है क्योंकि उक्त कार्यक्रम में सरकारी पदाधिकारी की मौजूदगी में भीड़ इकट्ठा करना शांति व्यवस्था भंग करना, उपस्थित क्षेत्र की जनता को भयभीत करना और अपने आप में कानून का उल्लंघन है. तय किया गया कि भारतीय जनता मोर्चा का एक प्रतिनिधिमंडल उपायुक्त से मिलकर उक्त कार्यक्रम को बाधित करने की मंशा की जांच करने तथा उचित कार्रवाई की मांग करेगा. बैठक में विधायक के निजी सचिव सुधीर सिंह, मंडल संयोजक एम चंद्रशेखर राव, आरके दुबे, प्रमोद मिश्रा, विजय नारायण, विनोद राय,नागेंद्र सिंह, मनोज सिंह उज्जैन, विधायक मंडल प्रतिनिधि असीम पाठक, जोगिंदर सिंह जोगी, अभय सिंह, कमल किशोर नवीन कुमार, अमरेश कुमार, अशोक कुमार उपस्थित थे.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply