jharkhand-bjp-raghuvar-das-new-inning-भाजपा की नड्डा कमेटी पर त्वरित टिप्पणी-पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास को भाजपा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया जाना, अर्जुन मुंडा एंड टीम को नो इंट्री, राष्ट्रीय अध्यक्ष का फैसला, कई सवालों का दे गया जवाब, जानें क्या है सियासी मायने, क्या कह रहे खुद रघुवर दास

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शनिवार की शाम को अपनी नयी कमेटी घोषित कर दी. इस नयी कमेटी में झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है. इसके अलावा पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास की पैरवी पर भाजपा में इंट्री पाने वाली राजद की पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी को पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का पद दिया गया है और भाजपा के अनुसूचित जनजाति मोरचा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर समीर उरांव को पदस्थापित किया गया है. इस टीम में झारखंड से सिर्फ इन तीन नाम को ही शामिल किया गया है. खुद रघुवर दास को जगह दी गयी है जबकि रघुवर दास के नजदीकी माने जाने वाले समीर उरांव को जगह दिया गया है जबकि खुद अन्नपूर्णा देवी को जगह दी गयी है, जो रघुवर दास की करीबी रही है. वैसे राज्य में सरकार बनाने में विफल और खुद के विधानसभा चुनाव तक हार जाने वाले रघुवर दास के बारे में यह कहा जा रहा था कि अब उनका समय चला गया है और पार्टी में उनकी पूछ नहीं रह गयी है. लेकिन इस मास्टर स्ट्रोक ने रघुवर दास को नयी ”संजीवनी” दी है. यह भी साफ कर दिया है कि रघुवर दास की पकड़ अब भी पार्टी के आलाकमान पर बरकरार है. यहीं वजह है कि केंद्रीय मंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा और उनकी टीम के लोगों को राष्ट्रीय कार्यसमिति में जगह नहीं दी गयी है. इससे यह साफ हो गया है कि रघुवर दास का युग भाजपा में अब भी बरकरार है और अब भी पार्टी में उनकी पकड़ ढिली नहीं है. इसको लेकर कई सारे सियासी मायने निकाले जा रहे है, लेकिन सभी जगह यह आकर रुक रहा है कि रघुवर दास भाजपा में है और महत्वपूर्ण ओहदे पर है, भले वे खुद मुख्यमंत्री रहे, विधायक रहे या नहीं रहे. वैसे चुनाव हारने के बाद अर्जुन मुंडा को भी पूर्व में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का पद जरूर दिया गया था. वैसे लगातार उपेक्षा के शिकार चल रहे अर्जुन मुंडा को केंद्रीय मंत्री बनाकर जरुर उनकी इज्जत भाजपा ने रखी है, लेकिन आदिवासी चेहरा के सामने नहीं आना बड़ी मुश्किल पैदा कर सकता है. हालांकि, पार्टी ने बाबूलाल मरांडी को इंट्री तो करा दी है, लेकिन उनको विपक्ष के नेता की जगह नहीं मिल पाना भी पार्टी के लिए सेटबैक जैसी स्थिति है.

Advertisement
Advertisement

भाजपा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनने पर क्या कह रहे है पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास
मैं भारतीय जनता पार्टी का एक अनुशासित कार्यकर्ता हूं, जो पार्टी के साथ आगे बढ़ रहा है. हम सभी हृदय से सदैव कार्यकर्ता ही रहेंगे. पार्टी द्वारा मुझे दिए गए इस महत्वपूर्ण दायित्व को मैं पूरी जिम्मेदारी और क्षमता के साथ निभाऊंगा. जो आदर्श और विचारधारा की विरासत डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी और पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी से मिली है, मैं उसे पूरी तरह से कायम रखूंगा. मुझ जैसे साधारण कार्यकर्ता को यह महत्वपूर्ण दायित्व सौंपने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष का हृदय से आभार और धन्यवाद करता हूं. –रघुवर दास, पूर्व मुख्यमंत्री

Advertisement

रघुवर दास : एक संक्षिप्त परिचय
नाम         : रघुवर दास
शिक्षा     : बीएससी, एलएलबी।
पेशा         : समाजसेवा / राजनीति।

Advertisement

राजनीतिक दायित्व :    

Advertisement
  1. जमशेदपुर के सीतारामडेरा, भाजपा का मंडल अध्यक्ष।
     2. जमशेदपुर महानगर भाजपा में जिला भाजपा महामंत्री, उपाध्यक्ष।
     3. प्रदेश भाजपा अध्यक्ष (जुलाई 2004 से मई 2005 तक और 19 जनवरी 2009 से 25 सितंबर 2010  तक)।
     4. राष्ट्रीय उपाध्यक्ष (16 अगस्त 2014 से 27 दिसंबर 2014 तक )।दूसरी बार 26 सितम्बर 2020 से

छात्र जीवन से सक्रिय राजनीति को सेवा का माध्यम बनाया। छात्र संघर्ष समिति में संयोजक की भूमिका निभाते हुए जमशेदपुर में विश्व विद्यालय की स्थापना के लिए आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभायी।  लोक नायक जयप्रकाश नारायण के संपूर्ण क्रांति आंदोलन में जमशेदपुर के युवा एवं छात्रों को संगठित किया। फलत: प्रशासन द्वारा गिरफ्तार कर गया जेल में रखा गया। श्रीमती इंदिरा गांधी द्वारा देश में लगाये गये आपातकाल का विरोध के फलस्वरूप प्रशासन द्वारा गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। 1977 में जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण और 1980 में भारतीय जनता पार्टी की स्थापना के साथ सक्रिय राजनीति की शुरूआत। पार्टी के मुंबई में हुए प्रथम राष्ट्रीय अधिवेशन में शामिल हुए।

Advertisement

प्रशासनिक दायित्व :   
 1. 15 नवंबर 17 मार्च 2003 तक श्रम एवं नियोजन मंत्री, झारखंड सरकार।
 2. मार्च 2003 से 14 जुलाई 2004 तक भवन निर्माण मंत्री, झारखंड सरकार।
 3. 12 मार्च 2005 से 14 सितंबर 2006 तक वित्त वाणिज्य एवं नगर विकास मंत्री, झारखंड सरकार।
 4. 30 दिसंबर 2009 से 30 मई 2010 तक उप मुख्यमंत्री एवं संसदीय कार्य मंत्री, झारखंड सरकार।
 5. 28 दिसंबर 2014 से  28  दिसंबर 2019 तक मुख्यमंत्री, झारखंड सरकार।

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply