16 C
Jamshedpur
शुक्रवार, दिसम्बर 4, 2020
होम धर्म Akshay-Navami-2020 : अक्षय नवमी को की गयी पूजा और दान का कभी...

Akshay-Navami-2020 : अक्षय नवमी को की गयी पूजा और दान का कभी क्षय नहीं होता, अक्षय नवमी 23 को

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : कार्तिक मास शुक्लपक्ष की नवमी तिथि यानी आंवला नवमी कल (23 नवंबर) को है. इसे अक्षय नवमी भी कहा जाता है. इस दिन दान, जप व तप सभी अक्षय होकर मिलते हैं अर्थात इनका कभी क्षय नहीं होता है. ऐसी मान्यता है कि आंवला नवमी स्वयं सिद्ध मुहूर्त है. अक्षय नवमी की पूजा संतान प्राप्ति एवं सुख, समृद्धि एवं कई जन्मों तक पुण्य क्षय न होने की कामना से की जाती है. इस दिन लोग परिवार सहित आंवला के पेड़ के नीचे भोजन तैयार कर ग्रहण करते हैं. इसके बाद ब्राह्मणों को द्रव्य, अन्न एवं अन्य वस्तुओं का दान करते हैं. अक्षय नवमी से जुड़ी कई मान्यताएं भी हैं. (आगे की खबर नीचे पढ़ें)

Advertisement
Advertisement

मान्यता है कि इस दिन महर्षि च्यवन ने आंवले का सेवन किया था, जिससे उन्हें फिर से यौवन मिला था, अत: इस दिन आंवला खाना चाहिए. इस दिन भगवान विष्णु का वास आंवले में होता है, इसलिए इस पेड़ की पूजा से समृद्धि बढ़ती है और दरिद्रता नहीं आती. कार्तिक शुक्लपक्ष की नवमी पर आंवले के पेड़ की परिक्रमा करने पर बीमारियों और पापों से छुटकारा मिलता है. अक्षय नवमी पर मां लक्ष्मी ने पृथ्वी लोक में भगवान विष्णु और शिवजी की पूजा आंवले के रूप में की थी और इसी पेड़ के नीचे बैठकर भोजन ग्रहण किया था. मान्यता ये भी है कि इसी दिन भगवान कृष्ण ने कंस वध से पहले तीन वनों की परिक्रमा की थी. इस वजह से अक्षय नवमी पर लाखों भक्त मथुरा-वृदांवन की परिक्रमा भी करते हैं. (आगे की खबर नीचे पढ़ें)

Advertisement
Advertisement

पंडितों व विद्वानों की मानें, तो पद्म पुराण में बताया गया है कि भगवान शिव ने कार्तिकेय को कहा है आंवला वृक्ष साक्षात विष्णु का ही स्वरूप है. यह विष्णु प्रिय है और इसके स्मरण से ही गोदान के बराबर फल मिलता है. आंवले के पेड़ के नीचे श्रीहरि विष्णु के दामोदर स्वरूप की पूजा की जाती है. अक्षय नवमी को पूरे दिन व्रत रखा जाता है और भगवान विष्णु और आंवले के पेड़ की पूजा की जाती है. पूजा के बाद इस पेड़ की छाया में बैठकर खाना खाया जाता है. माना जाता है कि ऐसा करने से हर तरह के पाप और बीमारियां दूर होती हैं.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

Most Popular

jamshedpur-accident-गोलमुरी में व्यापारी जवाहर विग की तेज रफ्तार जगुआर गाड़ी ने बाइक सवार को मारी टक्कर, बाइक सवार को 100 मीटर तक सड़क पर...

जमशेदपुर : जमशेदपुर में एक बार फिर तेज रफ्तार का कहर देखने को मिला है. इस बार घटना गोलमुरी थाना क्षेत्र में हुई है....

Horoscope : आज का राशिफल, शुक्रवार, 04 दिसंबर 2020 : जानें आज कैसा रहेगा आपका दिन

मेष : ख़ुद को परिष्कृत करने की कोशिश कई तरीक़ों से अपना असर दिखाएगी- आप ख़ुद को बेहतर और आत्मविश्वास से भरा हुआ महसूस...

jamshedpur-corona-update-जमशेदपुर में कोरोना के 22 नए मरीज आये, एक्टिव केस की संख्या घटा

जमशेदपुर : जमशेदपुर में गुरुवार को 3008 कोरोना संदिग्ध मरीजों के सैंपल की जांच हुई जिसमें 22 नए मरीज मिले हैं. इसी के साथ...

jamshedpur-women-missing-टाटा-छपरा ट्रेन से दो बच्चों के साथ गायब हो गई महिला, स्टेशन से पति के साथ ट्रेन पर चढ़ी, कांड्रा स्टेशन के पास पति...

जमशेदपुर : जमशेदपुर के टाटानगर रेलवे थाना में गुरुवार की रात उस समय हड़कंप मच गया जब एक व्यक्ति रोते बिलखते रेल थाना पहुंचा...

Akshay-Navami-2020 : अक्षय नवमी को की गयी पूजा और दान का कभी क्षय नहीं होता, अक्षय नवमी 23 को

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : कार्तिक मास शुक्लपक्ष की नवमी तिथि यानी आंवला नवमी कल (23 नवंबर) को है. इसे अक्षय नवमी भी कहा जाता है. इस दिन दान, जप व तप सभी अक्षय होकर मिलते हैं अर्थात इनका कभी क्षय नहीं होता है. ऐसी मान्यता है कि आंवला नवमी स्वयं सिद्ध मुहूर्त है. अक्षय नवमी की पूजा संतान प्राप्ति एवं सुख, समृद्धि एवं कई जन्मों तक पुण्य क्षय न होने की कामना से की जाती है. इस दिन लोग परिवार सहित आंवला के पेड़ के नीचे भोजन तैयार कर ग्रहण करते हैं. इसके बाद ब्राह्मणों को द्रव्य, अन्न एवं अन्य वस्तुओं का दान करते हैं. अक्षय नवमी से जुड़ी कई मान्यताएं भी हैं. (आगे की खबर नीचे पढ़ें)

Advertisement
Advertisement

मान्यता है कि इस दिन महर्षि च्यवन ने आंवले का सेवन किया था, जिससे उन्हें फिर से यौवन मिला था, अत: इस दिन आंवला खाना चाहिए. इस दिन भगवान विष्णु का वास आंवले में होता है, इसलिए इस पेड़ की पूजा से समृद्धि बढ़ती है और दरिद्रता नहीं आती. कार्तिक शुक्लपक्ष की नवमी पर आंवले के पेड़ की परिक्रमा करने पर बीमारियों और पापों से छुटकारा मिलता है. अक्षय नवमी पर मां लक्ष्मी ने पृथ्वी लोक में भगवान विष्णु और शिवजी की पूजा आंवले के रूप में की थी और इसी पेड़ के नीचे बैठकर भोजन ग्रहण किया था. मान्यता ये भी है कि इसी दिन भगवान कृष्ण ने कंस वध से पहले तीन वनों की परिक्रमा की थी. इस वजह से अक्षय नवमी पर लाखों भक्त मथुरा-वृदांवन की परिक्रमा भी करते हैं. (आगे की खबर नीचे पढ़ें)

Advertisement
Advertisement

पंडितों व विद्वानों की मानें, तो पद्म पुराण में बताया गया है कि भगवान शिव ने कार्तिकेय को कहा है आंवला वृक्ष साक्षात विष्णु का ही स्वरूप है. यह विष्णु प्रिय है और इसके स्मरण से ही गोदान के बराबर फल मिलता है. आंवले के पेड़ के नीचे श्रीहरि विष्णु के दामोदर स्वरूप की पूजा की जाती है. अक्षय नवमी को पूरे दिन व्रत रखा जाता है और भगवान विष्णु और आंवले के पेड़ की पूजा की जाती है. पूजा के बाद इस पेड़ की छाया में बैठकर खाना खाया जाता है. माना जाता है कि ऐसा करने से हर तरह के पाप और बीमारियां दूर होती हैं.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

Most Popular

jamshedpur-accident-गोलमुरी में व्यापारी जवाहर विग की तेज रफ्तार जगुआर गाड़ी ने बाइक सवार को मारी टक्कर, बाइक सवार को 100 मीटर तक सड़क पर...

जमशेदपुर : जमशेदपुर में एक बार फिर तेज रफ्तार का कहर देखने को मिला है. इस बार घटना गोलमुरी थाना क्षेत्र में हुई है....

Horoscope : आज का राशिफल, शुक्रवार, 04 दिसंबर 2020 : जानें आज कैसा रहेगा आपका दिन

मेष : ख़ुद को परिष्कृत करने की कोशिश कई तरीक़ों से अपना असर दिखाएगी- आप ख़ुद को बेहतर और आत्मविश्वास से भरा हुआ महसूस...

jamshedpur-corona-update-जमशेदपुर में कोरोना के 22 नए मरीज आये, एक्टिव केस की संख्या घटा

जमशेदपुर : जमशेदपुर में गुरुवार को 3008 कोरोना संदिग्ध मरीजों के सैंपल की जांच हुई जिसमें 22 नए मरीज मिले हैं. इसी के साथ...

jamshedpur-women-missing-टाटा-छपरा ट्रेन से दो बच्चों के साथ गायब हो गई महिला, स्टेशन से पति के साथ ट्रेन पर चढ़ी, कांड्रा स्टेशन के पास पति...

जमशेदपुर : जमशेदपुर के टाटानगर रेलवे थाना में गुरुवार की रात उस समय हड़कंप मच गया जब एक व्यक्ति रोते बिलखते रेल थाना पहुंचा...

Akshay-Navami-2020 : अक्षय नवमी को की गयी पूजा और दान का कभी क्षय नहीं होता, अक्षय नवमी 23 को

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : कार्तिक मास शुक्लपक्ष की नवमी तिथि यानी आंवला नवमी कल (23 नवंबर) को है. इसे अक्षय नवमी भी कहा जाता है. इस दिन दान, जप व तप सभी अक्षय होकर मिलते हैं अर्थात इनका कभी क्षय नहीं होता है. ऐसी मान्यता है कि आंवला नवमी स्वयं सिद्ध मुहूर्त है. अक्षय नवमी की पूजा संतान प्राप्ति एवं सुख, समृद्धि एवं कई जन्मों तक पुण्य क्षय न होने की कामना से की जाती है. इस दिन लोग परिवार सहित आंवला के पेड़ के नीचे भोजन तैयार कर ग्रहण करते हैं. इसके बाद ब्राह्मणों को द्रव्य, अन्न एवं अन्य वस्तुओं का दान करते हैं. अक्षय नवमी से जुड़ी कई मान्यताएं भी हैं. (आगे की खबर नीचे पढ़ें)

Advertisement
Advertisement

मान्यता है कि इस दिन महर्षि च्यवन ने आंवले का सेवन किया था, जिससे उन्हें फिर से यौवन मिला था, अत: इस दिन आंवला खाना चाहिए. इस दिन भगवान विष्णु का वास आंवले में होता है, इसलिए इस पेड़ की पूजा से समृद्धि बढ़ती है और दरिद्रता नहीं आती. कार्तिक शुक्लपक्ष की नवमी पर आंवले के पेड़ की परिक्रमा करने पर बीमारियों और पापों से छुटकारा मिलता है. अक्षय नवमी पर मां लक्ष्मी ने पृथ्वी लोक में भगवान विष्णु और शिवजी की पूजा आंवले के रूप में की थी और इसी पेड़ के नीचे बैठकर भोजन ग्रहण किया था. मान्यता ये भी है कि इसी दिन भगवान कृष्ण ने कंस वध से पहले तीन वनों की परिक्रमा की थी. इस वजह से अक्षय नवमी पर लाखों भक्त मथुरा-वृदांवन की परिक्रमा भी करते हैं. (आगे की खबर नीचे पढ़ें)

Advertisement
Advertisement

पंडितों व विद्वानों की मानें, तो पद्म पुराण में बताया गया है कि भगवान शिव ने कार्तिकेय को कहा है आंवला वृक्ष साक्षात विष्णु का ही स्वरूप है. यह विष्णु प्रिय है और इसके स्मरण से ही गोदान के बराबर फल मिलता है. आंवले के पेड़ के नीचे श्रीहरि विष्णु के दामोदर स्वरूप की पूजा की जाती है. अक्षय नवमी को पूरे दिन व्रत रखा जाता है और भगवान विष्णु और आंवले के पेड़ की पूजा की जाती है. पूजा के बाद इस पेड़ की छाया में बैठकर खाना खाया जाता है. माना जाता है कि ऐसा करने से हर तरह के पाप और बीमारियां दूर होती हैं.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

Most Popular

jamshedpur-accident-गोलमुरी में व्यापारी जवाहर विग की तेज रफ्तार जगुआर गाड़ी ने बाइक सवार को मारी टक्कर, बाइक सवार को 100 मीटर तक सड़क पर...

जमशेदपुर : जमशेदपुर में एक बार फिर तेज रफ्तार का कहर देखने को मिला है. इस बार घटना गोलमुरी थाना क्षेत्र में हुई है....

Horoscope : आज का राशिफल, शुक्रवार, 04 दिसंबर 2020 : जानें आज कैसा रहेगा आपका दिन

मेष : ख़ुद को परिष्कृत करने की कोशिश कई तरीक़ों से अपना असर दिखाएगी- आप ख़ुद को बेहतर और आत्मविश्वास से भरा हुआ महसूस...

jamshedpur-corona-update-जमशेदपुर में कोरोना के 22 नए मरीज आये, एक्टिव केस की संख्या घटा

जमशेदपुर : जमशेदपुर में गुरुवार को 3008 कोरोना संदिग्ध मरीजों के सैंपल की जांच हुई जिसमें 22 नए मरीज मिले हैं. इसी के साथ...

jamshedpur-women-missing-टाटा-छपरा ट्रेन से दो बच्चों के साथ गायब हो गई महिला, स्टेशन से पति के साथ ट्रेन पर चढ़ी, कांड्रा स्टेशन के पास पति...

जमशेदपुर : जमशेदपुर के टाटानगर रेलवे थाना में गुरुवार की रात उस समय हड़कंप मच गया जब एक व्यक्ति रोते बिलखते रेल थाना पहुंचा...
Don`t copy text!