spot_imgspot_img

Global Statistics

All countries
229,556,336
Confirmed
Updated on September 21, 2021 12:46 AM
All countries
204,531,681
Recovered
Updated on September 21, 2021 12:46 AM
All countries
4,709,250
Deaths
Updated on September 21, 2021 12:46 AM
spot_img

Indore : बचपन में धर्म के संस्कार पड़ते हैं युवावस्था में धर्म होता है : आचार्य विमदसागर

Advertisement
Advertisement

इंदौर : बचपन में धर्म के संस्कार पड़ते हैं, युवावस्था में धर्म होता है। संसार में सब प्रकार के जीव होते हैं धर्म करने वाले भी होते हैं और कर्म करने वाले भी होते हैं। कोई जीव पुण्य कर्म का फल भोगता है और कोई जीव पाप कर्म का फल भोगता है। एक व्यक्ति वह है जो पहले पुण्य कर्म का फल भोगता है बाद में पाप कर्म का फल भोगता है। दूसरा व्यक्ति वह है जो पहले पाप कर्म का फल भोगता है फिर पुण्य कर्म का फल भोगता है। तीसरा व्यक्ति वह है जो पहले भी पाप कर्म का फल भोगता है और बाद में भी पाप कर्म का फल भोगता है। चौथा व्यक्ति वह है जो पहले भी पुण्य कर्म का फल भोगता है और बाद में भी पुण्य कर्म का फल ही भोगता है। बचपन खेलने में निकल गया, जवानी भोगने में निकल गई और बुढ़ापा अस्पताल में निकल रहा है। युवाओं को गृहस्थी चलाने के लिये धन आवश्यक है और पुण्यार्जन के लिये धर्म आवश्यक है। आठ साल की उम्र के बाद ही बालक धर्म करने के योग्य होता है। आठ साल से पहले का बच्चा भोजन कर सकता है लेकिन भजन नहीं कर पाता है। आठ साल के पहले का बच्चा भगवान के अभिषेक एवम् मुनिराज को आहार देने के योग्य नहीं है। संघस्थ अनिल भैया ने डॉ. महेन्द्रकुमार जैन ‘मनुज को बताया कि गणाचार्य विरागसागर महाराज के परम प्रभावक शिष्य महातपस्वी आचार्य विमदसागर महाराज ने सुदामानगर इंदौर में एक धर्म सभा में ये प्रवचन दिये। (नीचे भी पढ़ें)

Advertisement
Advertisement

उन्होंने कहा कि इसी प्रकार बुढ़ापे में जिनके हाथ कांपने लगे हैं वह भी अभिषेक करने के योग्य नहीं हैं। अति बाल और अति वृद्ध दोनों अभिषेक के योग्य नही हैं, इसलिये धर्म जवानी में प्रारम्भ करना चाहिये। वृद्ध अवस्था में भगवान के अभिषेक देखना चाहिये और णमोकार जाप करना चाहिये। वृद्ध अवस्था में जब हाथ कांपते हैं अभिषेक करते समय कलश छूट जाता है। वृद्धावस्था में भारी धर्म नहीं हो सकता है, हल्का-फुल्का ही धर्म हो सकता है। वृद्धावस्था में महाउपवास एवम् महातप नही हो सकता है क्योंकि तप करने के लिये शरीर में बल आवश्यक है। वृद्धावस्था में धर्म करने की उत्कृष्ट भावना होती है क्योंकि बचपन में और जवानी धर्म किया ही नहीं। युवावस्था में ही धर्म करना चाहिये। महापुरुषों का कभी बुढ़ापा नहीं आता है।

Advertisement
[metaslider id=15963 cssclass=””]

Advertisement
Advertisement
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM
IMG-20200108-WA0007-808x566
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM (1)
WhatsApp_Image_2020-03-18_at_12.03.14_PM_1024x512
previous arrow
next arrow
Advertisement

Leave a Reply

spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!