spot_imgspot_img

Global Statistics

All countries
228,535,431
Confirmed
Updated on September 18, 2021 7:42 PM
All countries
203,421,412
Recovered
Updated on September 18, 2021 7:42 PM
All countries
4,695,290
Deaths
Updated on September 18, 2021 7:42 PM
spot_img

इंटरकॉन्टिनेंटल क्वालिटी अवॉर्ड 2020 से सम्मानित हुए गणित के जादूगर एमके झा

Advertisement
Advertisement

मेदिनीनगर : मुंबई के होटल ताज शांताक्रूज में आयोजित एक भव्य समारोह में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के योग गुरु योगी अजय राणा ने गणितज्ञ एमके झा को इंटरकॉन्टिनेंटल क्वालिटी अवॉर्ड 2020 से सम्मानित किया. गणित के जादूगर के रूप में अपनी पहचान बना चुके शिक्षक एमके झा बिहार के श्रेष्ठ शिक्षकों में शामिल हैं जिनसे पढ़ने की तमन्ना लिए अनेक छात्र पटना पहुंचते हैं. प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी करानेवाला इनका झा क्लासेज बिहार में स्थापित है. पटना के नया टोला सेंट्रल बैंक बिल्डिंग के द्वितीय तल पर झा क्लासेज का संचालन होता है. मूल रूप से ग्राम शाहपुर पंडोल जिला मधुबनी के निवासी एमके झा के पिता तारा कांत झा व्यवसाय मे थे. एककृत बिहार में बोकारो में स्कूली शिक्षा आदर्श मध्य विद्यालय चास से तथा दसवीं की शिक्षा राम रूद्र हाई स्कूल जोधाडीह मोड़ से हुई. 1986 में इन्होंने मारवाड़ी कॉलेज रांची से इंटर की परीक्षा और 1989 में रांची कॉलेज से गणित प्रतिष्ठा में स्नातक की डिग्री ली. पढ़ाई समाप्त होने के बाद प्रतियोगिता परीक्षाओं में लगे सर्वप्रथम इनका चयन पटना के एलएन मिश्रा संस्थान के लिए हुआ, लेकिन इन्होंने एडमिशन नहीं लिया तत्पश्चात असिस्टेंट स्टेशन मास्टर के रूप में मुंबई रेलवे के लिए चयनित हुए. उन्होंने वहां भी ज्वाइन नही किया. उसके बाद असिस्टेंट स्टेशन मास्टर के तौर पर महेंद्रू रेलवे बोर्ड के लिए भी चयनित हुए लेकिन इनके मन में बचपन से ही लीक से अलग कुछ कर गुजरने की चाहत थी. जो ज्ञान इनके पास है छात्रों के बीच बांटा जाए तो बिहार से हजारों की तादाद में छात्र विभिन्न सरकारी नौकरियों के लिए चयनित हो सकते हैं. इस जज्बे के साथ 25 वर्षों से छात्रों को पढ़ाने वाले एम के झा के10 हजार से ज्यादा छात्र विभिन्न सरकारी नौकरियों में उच्च पदों तक आसीन है. विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय सम्मान से सम्मानित गणितज्ञ एमके झा को दिल्ली के उप मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया, पूर्व सीबीआई डायरेक्टर जोगिंदर सिंह तथा देश की प्रतिष्ठित मासिक पत्रिका आउटलुक ने श्रेष्ठअवार्ड से भी सम्मानित किया है. बातचीत के क्रम में उन्होने बताया कि पढ़ने-पढ़ाने के अलावा वे कुछ भी नहीं सोचते हैं. उन्हें लगता है कि छात्रों के अंदर सब कुछ है. बस उसे परोसने की कला सीखनी है. गणित के बारे में छात्रों के दिमाग में बचपन से ही बैठा दिया जाता है कि कठिन है, लेकिन तकनीक के माध्यम से पढ़ाते हैं जिससे छात्रों को लगता है कि अन्य विषय से गणित के सवालों को हल करना काफी आसान है.

Advertisement
Advertisement

Advertisement
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM
IMG-20200108-WA0007-808x566
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM (1)
WhatsApp_Image_2020-03-18_at_12.03.14_PM_1024x512
previous arrow
next arrow
Advertisement

Leave a Reply

spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!