Jamshedpur-womens-College : वीमेंस कॉलेज में हुई एकेडमिक काउंसिल की बैठक, नये सत्र से स्नातक में नया पाठ्यक्रम, रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेव की होगी स्थापना, बायो टेक्नोलॉजी व फिजिक्स में एमएससी तथा योगा में एमए की पढ़ाई भी होगी शुरू, कॉलेज में फैकल्टी डेवलपमेंट कार्यक्रम आरंभ

Advertisement
Advertisement

Jamshedpur : वीमेंस कॉलेज में शनिवार को विद्वत् परिषद् की अहम बैठक में यूजी, पीजी और एमफिल-पीएचडी के पाठ्यक्रमों को सर्वसम्मति से अनुमोदित कर दिया गया। प्राचार्या प्रोफेसर (डॉ.) शुक्ला महांती की अध्यक्षता में बैठक हुई। इसमें कॉलेज के सभी संकायाध्यक्ष, विभागाध्यक्ष सहित विद्वत् परिषद् के बाह्य व आंतरिक नामित सदस्य ऑनलाइन शामिल हुए।

Advertisement
Advertisement
Advertisement

बैठक में लिये गये महत्वपूर्ण निर्णय

Advertisement
  • सभी अनुमोदित नये पाठ्यक्रम नये सत्र 2020 से कला, समाज विज्ञान, विज्ञान, वाणिज्य तथा व्यावसायिक पाठ्यक्रम के पहले सेमेस्टर में नामांकित छात्राओं के लिए प्रभावी होंगे
  • रिसर्च एण्ड डेवलपमेंट सेल स्थापित करने की स्वीकृति प्रदान की गई
  • फैशन एण्ड एसेसरीज डिजाईन कोर्स शुरू करने की सहमति प्रदान की गई
  • बायो टेक्नोलॉजी में एमएससी कोर्स शुरू करने की स्वीकृति प्रदान की गई
  • फिजिक्स में एमएससी और योग में एमए कोर्स इसी सत्र से शुरू करने की स्वीकृति प्रदान की गई

कॉलेज में सात दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट कार्यक्रम आरंभ

Advertisement

वीमेंस कॉलेज में शनिवार को मूडल सॉफ्टवेयर से संबंधित सात दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट कार्यक्रम की शुरुआत प्राचार्या ने ऑनलाइन की। उद्घाटन वक्तव्य देते हुए उन्होंने कहा कि कोविड 19 के समय में ऑनलाइन कक्षा पहले विवशता थी, लेकिन अब वह आवश्यकता बन गयी है। मूडल सॉफ्टवेयर शिक्षण को आसान बनाता है। इसका प्रशिक्षण लेकर हमारे शिक्षक व शिक्षिकाएं अपने नॉलेज डोमेन और उसके वितरण को मजबूत करेंगे। यह कार्यक्रम आईआईटी बांबे के स्पोकेन ट्यूटोरियल और कॉलेज के बीच एमओयू के तहत आयोजित हो रहा है। आईआईटी बांबे के स्पोकेन ट्यूटोरियल से रूद्र विश्वास ने कहा कि यह कार्यक्रम एमएचआरडी व नेशनल एजुकेशन मिशन से अनुमोदित है। शिक्षकगण कैरियर की तरक्की में आवश्यक एपीआई इससे अर्जित कर सकते हैं। उन्होंने खास तौर पर उल्लेख किया कि वीमेंस कॉलेज पहला सरकारी उच्च शिक्षण संस्थान है जिसने स्पोकेन ट्यूटोरियल की इस महत्वाकांक्षी परियोजना में विधिवत सहभागिता की। कार्यक्रम का समन्वयन डॉ राजेन्द्र कुमार जायसवाल व डॉ सुधीर कुमार साहू कर रहे हैं।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply