jamshedpur-womens-college-जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज में शिक्षक-शिक्षिकाओं के साथ ऑनलाइन समीक्षा बैठक, एमफिल की भी हो सकेगी पढ़ाई, ऑनलाइन होगी परीक्षाएं, जहां नेटवर्क या मोबाइल-लैपटॉप की दिक्कत, उसकी अलग से होगी व्यवस्था

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : जमशेदपुर के बिष्टुपुर स्थित वीमेंस कॉलेज की प्राचार्या प्रो डॉ शुक्ला मोहंती ने सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं के साथ ऑनलाइन समीक्षा बैठक की. उन्होंने ऑनलाइन परीक्षा संबंधी तैयारियों का जायजा लिया. विभागों से जानकारी मिली कि कुछ छात्राएं सुदूर इलाके में हैं, जिनके पास इंटरनेट और स्मार्ट फोन, लैपटॉप संबंधी समस्याएं हैं. प्राचार्या ने समाधान करते हुए कहा कि ऐसी छात्राओं को विभागवार चिह्नित कर सूची तैयार करें. उनकी संख्या और उसके अनुसार सुविधाओं का ध्यान रखते हुए अलग से विचार किया जाएगा. उन्होंने हिन्दी, अंग्रेजी, अर्थशास्त्र, राजनीति विज्ञान सहित कुछ विषयों में एमफिल पाठ्यक्रम शुरू करने का प्रस्ताव तैयार करने को कहा. विभागाध्यक्ष को निर्देश दिया गया कि एमफिल शुरू करने के लिए पाठ्यक्रम आदि को अद्यतन नियमावली के तहत तैयार कर 10 जुलाई को होने वाली समीक्षा बैठक से पहले कार्यालय में उपलब्ध करा दें. साथ ही उन्होंने ऑनलाइन परीक्षा देने वाली छात्राओं से लगातार संपर्क में रहने को कहा. शिड्यूल बनाकर उनका मॉक टेस्ट भी कराते रहना है. उन्होंने टेस्टमोज ऐप्लीकेशन की कार्य प्रणाली पर तैयार करवाया गया एक यूट्यूब ट्यूटोरियल वीडियो शिक्षक शिक्षिकाओं के ईमेल पर उपलब्ध करवाया. इसे छात्राओं को भी विभागाध्यक्ष उपलब्ध करा सकते हैं. अभ्यास करते रहने से उन्हें परीक्षा के दौरान सुविधा होगी. बैठक के दौरान सभी शिक्षक व शिक्षिकाएं गूगल मीट ऐप्लीकेशन के माध्यम से जुड़े रहे.

Advertisement
Advertisement

वीमेंस कॉलेज के एमएड शिक्षक व छात्राओं से प्राचार्या ने की ऑनलाइन बैठक
वीमेंस कॉलेज की प्राचार्या प्रो डॉ शुक्ला महांती ने सोमवार को एमएड के अंतिम सेमेस्टर की छात्राओं और शिक्षक-शिक्षिकाओं के साथ गूगल मीट ऐप के जरिए बैठक की. बैठक के दौरान छात्राओं ने ऑनलाइन परीक्षा की पद्धति पर चर्चा की गई. प्राचार्या ने छात्राओं से कहा कि चूंकि आप सभी भविष्य में शिक्षण से जुड़ेंगी इसलिए शिक्षण और मूल्यांकन के बदल रहे तरीकों से खुद को अद्यतन रखना चाहिए. आप नवाचार की अग्रदूत बनें और चुनौतियों को अवसर में बदलने के लिए खुद की दक्षता बढ़ायें. उन्होंने छात्राओं को टेस्टमोज ऐप्लीकेशन का अभ्यास करते रहने की सलाह दी. इस दौरान विभाग की समन्वयक के अलावा सभी शिक्षक-शिक्षिकाएं और छात्राएं जुड़े रहे.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement

Leave a Reply