spot_imgspot_img

Global Statistics

All countries
228,535,431
Confirmed
Updated on September 18, 2021 7:42 PM
All countries
203,421,412
Recovered
Updated on September 18, 2021 7:42 PM
All countries
4,695,290
Deaths
Updated on September 18, 2021 7:42 PM
spot_img

एजेयू में वॉइस ऑफ रेजिलिएंस एंड रेजिस्टेंस पर अंग्रेजी विभाग का राष्ट्रीय वेबिनार आयोजित, वक्ताओं ने कहा-कोरोना ने प्रकृति संरक्षण के प्रति लोगों को सजग व आम जन की समस्याओं को उजागर भी किया है

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : अर्का जैन विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग द्वारा ‘सीइंग कोविड-19 ऐज अ वॉइस ऑफ रेजिलिएंस एंड रेजिस्टेंस : एन इकोक्रिटिकल पर्सपेक्टिव’ विषयक राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया. इसमें जमशेदपुर के अलावा देश के विभिन्न महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों के विद्यार्थी, शिक्षक व शोधकर्ता गूगल मीट के माध्यम से जुड़े. वेबिनार में वक्ताओं के रूप में करीम सिटी कॉलेज के अंग्रेजी विभागाध्यक्ष डॉ एसएम याहिया इब्राहिम व अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय के वीमेंस कॉलेज की अंग्रेजी प्राध्यापक डॉ फोजिया उस्मानी ने इ-श्रोताओं को सम्बोधित किया और कोविड महामारी से उत्पन्न विषमताओं से जूझने की प्रवृत्ति में हुई वृद्धि पर विस्तार से चर्चा की.

Advertisement
Advertisement

डॉ याहिया इब्राहिम ने कहा कि भविष्य का पूर्ण आंकलन करना संभव नहीं है, पर कोरोना के बाद बदलाव निश्चित है और इस महामारी ने हमें प्रकृति, आचरण, मानसिकता, धारणा आदि पहलुओं पर सोचने को मजबूर किया है. उन्होंने कहा कि इस महामारी ने प्रकृति के संरक्षण के प्रति लोगों को सजग किया है और आम जन की समस्याओं और संस्थाओं की नाकामी को भी उजागर किया है. डॉ इब्राहिम ने यह भी कहा कि मानव अपनी जीवन-शैली व गलतियों पर भी विचार कर रहा है.

Advertisement

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की डॉ फौजिया उस्मानी ने कोविड को मानवीय संवेदनहीनता का प्रतिफल बताते हुए कहा कि मानव का प्रकृति पर हद से ज्यादा नियंत्रण करने की कोशिश ही सारे संतुलन को बिगाड़ता है. अब प्रकृति को प्राथमिकता देने की मानसिकता उभर रही है. उन्होंने कोविड से सामाजिक समरसता बढ़ने की भी बात कही. उन्होंने कहा कि जिस तरह इस महामारी काल में लोग एक दूसरे की सेवा के लिए आगे आये, उसे बनाये रखने की जरूरत है.

Advertisement

वेबिनार में अर्का जैन विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो (डॉ) एसएस रजी, निदेशक अमित श्रीवास्तव, निदेशक कैंपस डॉ अंगद तिवारी, कुलसचिव जसबीर सिंह धंजल समेत विश्वविद्यालय के कई वरीय पदाधिकारी व शिक्षक जुड़े। प्रो रजी ने ऐसे समसामयिक और उपयुक्त विषय के चयन के लिए विभाग को बधाई दी. अंग्रेजी विभाग की प्रोग्राम को-ऑर्डिनेटर प्रो राजकुमारी घोष ने स्वागत किया तथा प्रो शाहिन फातमा ने कार्यक्रम समन्वयक की भूमिका निभाते हुए सञ्चालन किया. डॉ मनोज कुमार पाठक ने धन्यवाद ज्ञापन किया.

Advertisement
[metaslider id=15963 cssclass=””]

Advertisement
Advertisement
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM
IMG-20200108-WA0007-808x566
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM (1)
WhatsApp_Image_2020-03-18_at_12.03.14_PM_1024x512
previous arrow
next arrow
Advertisement

Leave a Reply

spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!