srinath university : श्रीनाथ विश्वविद्यालय में “क्रिप्टो मार्केट” पर जागरूकता सत्र आयोजित, रवीश कुमार ने कहा- भारत में 38 फीसदी यूथ क्रिप्टो करेंसी के निवेशक, छात्रों को पॉकेट मनी निवेश करने का दिये टिप्स

राशिफल

जमशेदपुर : सरायकेला खरसावां के आदित्यपुर स्थित श्रीनाथ विश्वविद्यालय में “क्रिप्टो मार्केट” पर एक जागरूकता सत्र आयोजित किया गया. इस सत्र का आयोजन श्रीनाथ विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ कॉमर्स एंड मैनेजमेंट ने किया. सत्र का आरंभ प्रभाकर राज द्वारा क्रिप्टो करेंसी का परिचय देते हुए हुआ किया गया. उन्होंने कहा कि आज का युवा नौकरी लगने के बाद यह सोचता है कि कहां अपने पैसे को निवेश करें और वह फिक्स्ड डिपॉजिट करने में जुट जाता है. लेकिन हमें यह पुराने तरीके को छोड़ना होगा. आज हम क्रिप्टो करेंसी, बिटकॉइन आदि नए शब्दों को सुन रहे हैं. उन्होंने गांधी जी का उदाहरण देते हुए कहा कि यदि जिंदगी में कुछ करना हो तो कोई भी काम बहुत उत्साह और खुशी के साथ करना चाहिए. इस जागरूकता सत्र के प्रमुख वक्ता झारखंड के मोरल ग्रुप ऑफ कंपनीज के वरिष्ठ क्षेत्रीय प्रबंधक रवीश कुमार रहे. उन्होंने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत में 38 फीसदी यूथ क्रिप्टो करेंसी के निवेशक हैं. (नीचे भी पढ़ें)

21वीं सदी के बदलते परिवेश में बहुत चीजें लुप्त होती जा रही है. आज अकाउंट्स पहले जितना जटिल नहीं रह गया है. क्रिप्टो केरेंसी एक डिजिटल करेंसी है. इसे बाउंड्रीलेस करेंसी भी कहते हैं और इसे पूरे विश्व में उपयोग कर सकते हैं. क्रिप्टो करेंसी ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से ऑपरेट होता है, जिसमें हम लोग क्रिप्टो को रन करते हैं, जिसे हैक नहीं किया जा सकता है. रवीश कुमार ने कहा कि मैग्नेट गोल्ड क्रिप्टो टोकन, क्रिप्टो मार्केट के क्षेत्र में एक क्रांति है. अपनी बात को बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि छात्र सबसे बड़ा निवेशक हो सकता है और आप अपनी पॉकेट मनी को भी निवेश कर सकते हैं. आज हम लोग क्रिप्टो में निवेश करते हैं तो आने वाले समय में हमें आर्थिक आजादी मिलेगी. निवेश में रिस्क तो है और यह रिस्क सबसे अधिक स्टूडेंट उठा सकता है, जितना बड़ा रिस्क उतना बड़ा रिवार्ड भी होता है. रवीश कुमार ने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि सभी को शिक्षा तो मिलनी ही चाहिए. शिक्षा के महत्व को नकारा नहीं जा सकता है लेकिन हमें जॉब क्रिएटर भी बनना चाहिए. (नीचे भी पढ़ें)

उन्होंने कहा कि अगर हम कुछ बड़ा नहीं सोच पाते हैं तो आने वाली पीढ़ी को हम कुछ नहीं दे सकते हैं. आने वाले समय में रुपया, डॉलर नहीं रहेगा, रहेगा तो केवल क्रिप्टो क्योंकि जितना बड़ा नेटवर्क होता है उतना बड़ा नेटवर्थ भी होता है. सत्र के अंत में छात्रों ने अभिषेक राज, जो निवेश सलाहकार है तथा सवराम फाउंडेशन से जुड़े हुए हैं तथा रवीश कुमार से निवेश था, क्रिप्टो करेंसी से संबंधित कई प्रश्न पूछे, जिसका वक्ताओं ने जवाब दिया. अभिषेक राज ने छात्रों के प्रश्नों का जवाब देते हुए कहा कि आप एक स्टूडेंट हो इसलिए आपको क्रिप्टो करेंसी, बिटकॉइन, म्यूच्यूअल फंड, शेयर मार्केट सबको समझना चाहिए. आप निवेश करने के पहले कंपनी के प्रोफाइल को चेक करिए, यह आपकी रणनीति होनी चाहिए.
मीडिया से बात करते हुए स्कूल ऑफ कॉमर्स एंड मैनेजमेंट की विभागाध्यक्षा डॉ प्रियंका प्रियदर्शी ने कहा कि क्रिप्टो करेंसी के ऊपर झारखंड का यह पहला जागरूकता सत्र है, जिससे निश्चित रूप से हमारे विधार्थियों को लाभ मिलेगा और वे अच्छे तरीके से मुद्रा के नवीन रूपों को समझ सकेंगे. सत्र का संचालन छात्र मोहित कुमार ने तथा धन्यवाद ज्ञापन छात्रा कोमल प्रसाद ने किया.

Must Read

Related Articles