spot_img

xlri-new-session-started-एक्सएलआरआई ने जमशेदपुर और नयी दिल्ली के परिसरों में 2021 के नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत की, 613 भावी कारोबारी लीडरों का नया बैच लेंगे ट्रेनिंग, ऑनलाइन मोड में शुरू हुई क्लास, अनिवार्य ग्राम एक्सपोजर कार्यक्रम को हटाया गया, निदेशक ने कहा-

राशिफल

एक्सएलआरआइ का जमशेदपुर परिसर.

जमशेदपुर : देश की बड़ी प्रबंधकीय संस्थान एक्सएलआरआइ जेवियर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट का वर्ष 2021 का नया शैक्षणिक सत्र का शुभारंग हो गया. इसके तहत छात्रों के नए बैच का स्वागत किया गया. कुल 613 छात्र-छात्राएं इस सेशन में पढ़ाई करेंगे. इसके तहत बिजनेस मैनेजमेंट में 179, एचआर में 178 और जेनरल मैनेजमेंट के कोर्स में 114 छात्र-छात्राएं शामिल है. इसके अलावा प्रबंधकीय शिक्षा के फेलो प्रोग्राम में 14 और कार्यकारी फेलो कार्यक्रम में 20 छात्र-छात्राएं शामिल है. इसके अलावा एक्सएलआरआई दिल्ली-एनसीआर परिसर में नया बैच व्यवसाय प्रबंधन शुरू किया गया है, जिसमें 108 छात्र शामिल है. उद्घाटन सत्र के साथ छात्रों के लिए स्वागत सत्र ऑनलाइन आयोजित किया गया था. फादर पॉल ने स्वागत समारोह को संबोधित किया. फादर पॉल फर्नांडीस एसजे, एक्सएलआरआई-जेवियर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट, जमशेदपुर के निदेशक, फादर सेबेस्टियन जॉर्ज, एसजे, निदेशक, एक्सएलआरआई दिल्ली-एनसीआर कैंपस और डीन (अकादमिक), प्रो. आशीष के पाणि ने समारोह को संबोधित किया. फादर पॉल फर्नांडीस एसजे, निदेशक, एक्सएलआरआई-जेवियर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट, जमशेदपुर ने दोनों परिसरों के छात्रों के नए बैच का स्वागत किया. अपने स्वागत भाषण में उन्होंने जेसुइट शिक्षा के चार आवश्यक लक्षणों पर जोर दिया. चार विषयों पर विस्तार से बताते हुए उन्होंने कहा, “सात दशकों में एक्सएलआरआई की सफल वृद्धि जेसुइट शिक्षा के इन चार महत्वपूर्ण लक्षणों द्वारा निर्देशित है और हम उन पर जोर देना जारी रखेंगे. पहला पहलू है ‘उत्कृष्टता’-आसानी से संतुष्ट हुए बिना और अपनी उपलब्धियों से संतुष्ट हुए बिना सर्वश्रेष्ठ के लिए निरंतर प्रयास करना ; दूसरा पहलू ‘ईमानदारी के साथ ईमानदारी’ है- जो एक्सएलआरआई के लोकाचार का वर्णन करता है. कोई उत्कृष्टता प्राप्त नहीं कर सकता है, ईमानदारी और नैतिकता के बिना दीर्घकालिक सफलता दोनों साथ-साथ चलते हैं; तीसरा पहलू ‘भागफलों में संपूर्ण व्यक्ति की वृद्धि’ से संबंधित है-बौद्धिक, सामाजिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक स्तरों पर एक व्यक्ति का विकास; और चौथी पहचान ‘सामाजिक चेतना’ है – हमारे आसपास के कम विशेषाधिकार प्राप्त लोगों की जरूरतों के प्रति संवेदनशील होना.” उन्होंने कहा कि उत्कृष्टता और नैतिकता एक्सएलआरआई के डीएनए के महत्वपूर्ण तत्व हैं और संस्थान के प्रत्येक छात्र को यहां से इसके गुण दिए जाते हैं. एक्सएलआरआई के लक्ष्यों में से एक है दूसरों के लिए बेहतर महिलाओं और पुरुषों को तैयार करना, गरीबों और वंचितों और हाशिए के लोगों की जरूरतों के प्रति अत्यधिक संवेदनशीलता वाले लोग तैयार करना है. उन्होंने कहा कि हमें भारत के समावेशी और सतत विकास के लिए काम करने के लिए बिजनेस लीडरों के रूप में हमारे निर्णय लेने में हमारे समाज के वंचित वर्गों की जरूरतों के प्रति सचेत रहने की जरूरत है. दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में नए परिसर की शुरुआत से ही, एक्सएलआरआई जमशेदपुर के ‘एक अभिन्न अंग’ के रूप में कल्पना की गई थी. उन्होंने बताया कि दो परिसर एक ही पंजीकृत सोसायटी, एक ही शासी बोर्ड का हिस्सा हैं, और सभी परिसरों के लिए एक ही कोषाध्यक्ष हैं. उन्होंने आगे कहा कि हमारी संस्थागत रणनीति जमशेदपुर और दिल्ली दोनों परिसरों को एक ही एक्सएलआरआई संस्थागत ब्रांड की दो संस्थाओं के रूप में देखती है. दोनों परिसरों के छात्र एक और केवल एक्सएलआरआई के हैं. नए छात्रों को नियमित कक्षाएं शुरू होने से पहले अपने ज्ञान को अद्यतन करने के लिए एक्सएलआरआई द्वारा तैयार किए गए एक विशेष इंटरेक्शन कार्यक्रम के माध्यम से लिया गया था. इस साल ओरिएंटेशन प्रोग्राम वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर आयोजित किया गया था. हर साल एक्सएलआरआई के प्रथम वर्ष के छात्र अनिवार्य विलेज एक्सपोजर प्रोग्राम और आउटबाउंड एडवेंचर प्रोग्राम से गुजरते हैं. दोनों कार्यक्रम विशेष रूप से छात्रों के लिए ग्रामीण भारत की वास्तविकताओं के बारे में जागरूकता पैदा करने और टीम भावना को बढ़ावा देने के लिए तैयार किए गए हैं. इस वर्ष महामारी के कारण इन कार्यक्रमों का आयोजन संभव नहीं होगा.

[metaslider id=15963 cssclass=””]

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!