spot_imgspot_img

Global Statistics

All countries
263,733,739
Confirmed
Updated on December 2, 2021 8:41 AM
All countries
236,274,097
Recovered
Updated on December 2, 2021 8:41 AM
All countries
5,241,859
Deaths
Updated on December 2, 2021 8:41 AM
spot_img

jharkhand-bjp-कोल्हान व संथाल परगना की सीटों पर खोयी प्रतिष्ठा वापस लाने की मुहिम में जुटी भाजपा, अनुसूचित जनजाति मोर्चा का तीन दिवसीय अधिवेशन 22 से 24 अक्टूबर रांची में, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा होंगे शामिल

Advertisement


रांचीः झारखंड में गठबंधन सरकार के गठन के दो साल बाद भाजपा एक बार फिर जनजातीय समुदाय के बीच अपनी खोयी साख वापस लाने की मुहिम जुट गयी है. संगठन मजबूती को लेकर भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा का 22 से 24 अक्टूबर तक राष्ट्रीय अधिवेशन रांची में होने जा रहा है. इस सम्मेलन में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा भी शामिल होंगे. चुंकि झारखंड विधानसभा में अनुसूचित जनजाति के लिए 28 सीट आरक्षित है. यही वजह है कि इस प्रदेश की राजनीति की धुरी में हमेशा से यह वर्ग रहा है. (नीचे भी पढ़े)

Advertisement
Advertisement

81 विधानसभा वाले प्रदेश में सभी राजनीतिक दल जनजाति समाज को केंद्र रखकर शुरु से ही राजनीति करते आ रहे है. झारखंड अलग राज्य बनने केबाद से लगातार तीन बार झारखंड की कमान आदिवासी नेताओं के हाथों में रही. भाजपा ने पहली बार वर्ष 2014 में आदिवासी की जगह गैर आदिवासी को मुख्यमंत्री बनाकर नया प्रयोग किया लेकिन भाजपा का यह प्रयोग चुनावी रणनीति के हिसाब से गलत साबित हो गया, जब 2019 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को जनजाति के लिए आरक्षित 28 सीटों में महज दो सीटों पर संतोष करना पड़ा. झारखंड में सबसे ज्यादा जनजातीय समुदाय के लिए आरक्षित सीट कोल्हान और संथालपरगना प्रमंडल में हैं जहां भाजपा का पिछले विधानसभा चुनाव में खाता तक नहीं खुला. (नीचे भी पढ़े)

Advertisement

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के इस्तीफे के बाद दुमका विधानसभा सीट खाली हुई थी. यहां हुए उपचुनाव में एक बार फिर भाजपा को मुंह की खानी पड़ी. जबकि इस उपचुनाव से पहले भाजपा ने झारखंड के कद्दावर आदिवासी नेता बाबूलाल मरांडी को फिर से अपनी पार्टी में वापसी करा ली थी. बाबूलाल फेक्टर भी दुमका उपचुनाव में काम नहीं किया और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के सामने बाबूलाल और अर्जुन मुंडा सरीखे आदिवासी नेता भी पस्त हो गए.भाजपा ने वर्ष 2019 के विधानसभा चुनाव के बाद जनजातीय राजनीति से पल्ला झाड लिया था. पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व ने अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय नेतृत्व की जिम्मेवारी झारखंड से राज्यसभा सांसद समीर उरांव के जिम्मे सौपा. (नीचे भी पढ़े)

Advertisement

लगातार कार्यक्रम भी हो रहे हैं लेकिन जैसी सफलता भाजपा को मिलनी चाहिए वह नहीं मिल रही है. वर्ष 2019 के विधानसभा चुनाव परिणाम को देखा जाय तो झामुमो को जनजातीय समुदाय के लिए आरक्षित सीटों में से 19 सीटों में सफलता मिली थी. कांग्रेस के खाते में छह सीटें आई थी. लेकिन भाजपा 13 सीटों से घटकर दो सीटों पर आ गयी थी. भाजपा अब इस समुदाय को साधने के लिए नए सिरे से जुट गयी है. इसी कड़ी में भाजपा ने जनजातीय मोर्चा का राष्ट्रीय अधिवेशन रांची में रखा है.

Advertisement
Advertisement
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM
IMG-20200108-WA0007-808x566
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM (1)
WhatsApp_Image_2020-03-18_at_12.03.14_PM_1024x512
previous arrow
next arrow

Leave a Reply

spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!