spot_img

jamshedpur-traffic-management-जमशेदपुर में एनएच किनारे अवैध पार्किंग, सीट बेल्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, हेल्मेट, ड्रंक एंड ड्राइव, लाइन होटलों में अवैध शराब बिक्री को लेकर चलेगा अभियान, वारी गाड़ियों में सीटों की उपलब्धता के अनुरूप ही सवारी बैठाने का लागू होगा नियम, आईआरएडी से अब होगी सड़क दुर्घटनाओं पर रखी जायेगी नजर, 30 दिन में 34 सड़क हादसा और 23 की मौत के बाद जागा प्रशासन

राशिफल

जमशेदपुर : जमशेदपुर के समाहरणालय सभागार में उपायुक्त सह जिला दण्डाधिकारी विजया जाधव की अध्यक्षता में जिला सड़क सुरक्षा समिति एवं यातायात की समीक्षा बैठक आयोजित हुई. बैठक में मार्च में हुई सड़क दुर्घटनाओं की विस्तृत समीक्षा करते हुए इसके कारणों तथा सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने को लेकर चर्चा की गई. मार्च महीने में जिले में कुल 34 सड़क दुर्घटना हुई, जिनमें 23 लोगों की मृत्यु हुई. उपायुक्त ने सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने को लेकर पर्याप्त संख्या में साइनेज, जगह-जगह पर स्पीड लिमिट बोर्ड, कर्व बोर्ड, कैट आई, डेंजर जोन, यू टर्न आदि का बोर्ड लगाने का निर्देश दिए. उन्होने कहा कि लोगों की लापरवाही से भी सड़क दुर्घटना में जनहानि की संभावना बढ़ जाती है, ऐसे में सीट बेल्ट, हेल्मेट, ड्राइविंग लाइसेंस की जांच को लेकर अभियान चलायें. साथ ही उत्पाद विभाग के पदाधिकारी को हाईवे के किनारे स्थित होटल, ढाबा में अवैध शराब बिक्री के विरूद्ध सघन छापेमारी अभियान चलाने का निर्देश दिया गया. एनएचआई के प्रतिनिधियों द्वारा धालभूमगढ़ एवं बहरागोड़ा में हाईवे पर अवैध पार्किंग से सड़क दुर्घटनाओं में वृद्दि को लेकर ध्यानाकर्षण किया गया. जिला उपायुक्त द्वारा पुलिस उपाधीक्षक यातायात को इस संबंध में सघन जांच चलाते हुए ऐसे वाहन चालकों और संचालकों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई सुनिश्चित करने का निदेश दिया गया. वहीं बस वेलफेयर एसोसिएशन के प्रतिनिधियों को सीटों की उपलब्धता के अनुरूप ही सवारी बैठाने का सख्त निर्देश दिया गया. बैठक में मानगो बस स्टैंड के विस्तारीकरण को लेकर चर्चा की गई. जिला उपायुक्त द्वारा इस संबंध में जेएनएसी पदाधिकारी को अतिक्रमण हटाने तथा अन्य आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करने का निदेश दिया गया. मानगो बस स्टैंड गोलचक्कर तथा मानगो पुल पर बसों के ठहराव पर भी कार्रवाई का निदेश गया. (नीचे देखे पूरी खबर)

अब आईआरएडी एप के जरिए सड़क दुर्घटनाओं पर रखी जाएगी नजर
बैठक में आईआरएडी (Integrated Road Accident Database) एप का प्रजेटेंशन दिया गया. अब एप के माध्यम से सड़क हादसों पर प्रशासन की सीधी नजर रहेगी. इससे हादसे से जुड़ा रिकार्ड तैयार करने में भी प्रशासन को मदद मिलेगी. दरअसल, सड़क हादसे में नियंत्रण के लिए केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने राष्ट्रीय सूचना केंद्र (एनआइसी) और आईआईटी मद्रास के सहयोग से इंटीग्रेटेड रोड एक्सीडेंट डेटाबेस मोबाइल एप (आईआरएडी एप) तैयार किया है. आई.आर.ए.डी एप के माध्यम से यह पता चल सकेगा कि सड़क हादसे क्यों हो रहे हैं, किस इलाके में सबसे अधिक हादसे हो रहे हैं, जिले में कितने ब्लैक स्पॉट है आदि। एप से तैयार डेटाबेस एवं विशेषज्ञों के सुझाव के आधार पर पीडब्ल्यूडी, एनएचएआई, परिवहन विभाग और अन्य संबंधित विभाग मिलकर सड़क का डिजाइन और दूसरी खामियों को दूर करने का काम करेंगे. आईआरएडी एप के माध्यम से दुर्घटना स्थल से ही ऑन द स्पॉट इंट्री की जा सकेगी. मौके पर ही एक्सीडेंट का फोटो लेकर उससे जुड़े तथ्य, व्यक्तियों व वाहन आदि की जानकारी भरी जा सकती है. इससे इलाज में भी आसानी होगी. सड़क दुर्घटना होने पर अगर मौके पर पुलिस के पहुंचने से पहले ही किसी अस्पताल में घायलों को ले जाया जाता है तो फौरन वहां इलाज शुरू हो जाएगा. हेल्थ विभाग को भी इस एप से जोड़ा जाएगा. सभी पीएचसी और सीएचसी को भी लॉगिन देने की योजना है. ये अपने यहां भर्ती मरीज का डिटेल जैसे ही भरेंगे. संबंधित थाना प्रभारी को भी इसकी सूचना हो जाएगी. मतलब अब घायलों को इलाज में काफी आसानी होगी. घायल का क्या इलाज हो रहा है, कौन-कौन सी दवा दी जा रही है इसका भी डिटेल अपलोड होता रहेगा. बैठक में एडीएम लॉ एंड ऑर्डर नन्दकिशोर लाल, जिला परिवहन पदाधिकारी दिनेश रंजन, जुगसलाई नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी जगदीश यादव, मानगो नगर निगम के कार्यपालक पदाधिकारी दीपक सहाय, डीआईओ, पुलिस उपाधीक्षक यातायात कमल किशोर, एपिडेमोलॉजिस्ट डॉ असद, पथ प्रमंडल के सहायक अभियंता, जेएनएससी, जुस्को, टाटा मोटर्स, बस वेलफेयर एसोसिएसन, सड़क सुरक्षा सेल के प्रतिनिधि तथा अन्य स्टेक होल्डर मौजूद रहे.

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!