spot_img

tata-steel-initiative-टाटा स्टील माइनिंग ने अपने संचालन को वाटर न्यूट्रल बनाने के लिए टेरी को बनाया सहभागी, ग्राउंड वाटर निकासी को शून्य करने की योजना, 2030 तक सतही जल की खपत को 30% तक कम करने का लक्ष्य की आगे बढ़ी कंपनी

राशिफल

जमशेदपुर : संयुक्त राष्ट्र के सस्टेनेबल डेवलपमेंट लक्ष्यों (एसडीजी) के साथ सस्टेनिबिलिटी और अपने दीर्घकालिक रणनीतिक अलाइनमेंट के लिए समूह की प्रतिबद्धता को जारी रखते हुए, टाटा स्टील माइनिंग लिमिटेड (टीएसएमएल) ने नई दिल्ली स्थित द एनर्जी एंड रिसोर्सेज (टीईआरआई-टेरी), के साथ साझेदारी की है. यह एक शोध संस्थान है जो ऊर्जा, पर्यावरण और सस्टेनेबल विकास के क्षेत्र में विशेषज्ञता रखता है, पानी के अधिक कुशल उपयोग और इसके संरक्षण को सुनिश्चित करने के लिए ओडिशा में अपनी पांच परिचालन सुविधाओं में वाटर ऑडिट्स आयोजित करता है. यह पहल कई पहलुओं पर केंद्रित है, जिसमें जल उपयोग और जल संतुलन, जल गुणवत्ता रूपरेखा, पानी के नुकसान और रिसाव की पहचान सहित व्यापक वाटर ऑडिट शामिल हैं. अध्ययन का उद्देश्य पानी के पुन: उपयोग, रीसाइक्लिंग, संरक्षण के साथ-साथ विशिष्ट जल खपत में कमी से संबंधित इन सुविधाओं पर कुशल जल प्रबंधन के लिए सिफारिशों की पहचान करना है. यह टीएसएमएल को एक एकीकृत औद्योगिक जल प्रबंधन रणनीति विकसित करने में सक्षम करेगा जो पानी के कुशल उपयोग को अनुकूलित करता है और इसकी इकाइयों में जल उत्पादकता में सुधार करता है. इसके अतिरिक्त, सर्वेक्षण के परिणाम जल उपयोग दक्षता में सुधार के राष्ट्रीय जल मिशन के लक्ष्य में योगदान करेंगे. टीएसएमएल ने पानी की खपत को कम करने के लिए एक्वाजेन तंत्र स्थापित करने के लिए, पानी के समाधान पर काम करने वाली कर्नाटक स्थित कंपनी फ्लक्सजेन इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजीज के साथ भी भागीदारी की है. एक्वाजेन एक एसएएएस (सॉफ्टवेयर एज ए सर्विस) प्लेटफ़ॉर्म है जो वाटर फ्लो, जल स्तर और बोरवेल जल स्तर जैसे मापदंडों पर संपूर्ण जल अवसंरचना के डिजिटल डेटा को एक सुरक्षित सिंगल विंडो एक्सेस सिस्टम प्रदान करेगा. सबसे पहले, कंपनी जाजपुर में अपनी सुकिंदा क्रोमाइट माइन में एक्वाजेन और ओडिशा के कटक जिले के अठागढ़ में फेरो अलॉय प्लांट की तैनाती कर रही है, जिसमें फेरोक्रोम बनाने की पूरी मूल्य श्रृंखला शामिल है. टीएसएमएल के प्रबंध निदेशक पंकज कुमार सतीजा ने कहा कि, पानी एक महत्वपूर्ण राष्ट्रीय संसाधन है, हम 2030 तक शून्य भूजल निकासी और सतही जल उपयोग में 30% की कमी पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं. टीएसएमएल स्थानीय जल निकायों को पुनर्जीवित करने, स्वच्छ पेयजल तक पहुंच बढ़ाने और पानी की विवेकपूर्ण खपत को बढ़ावा देने के साथ ही कंपनी के संचालन में “रिड्यूस, रीयूज और रीसाइकल” विधियों को बढ़ावा देने और अपनी इकाइयों के पास रहनेवाले समुदायों के लिए इसे बढ़ावा देने के लिए भी काम कर रहा है। टेरी और फ्लक्सजेन का सहयोग इस दिशा में योगदान देगा. नेट जीरो वेस्टवाटर डिस्चार्ज की कंपनी की प्रतिबद्धता सुनिश्चित करने के लिए, टीएसएमएल ने सुकिंदा क्रोमाइट माइन (एससीएम) में एक 108 मिलियन लीटर प्रति दिन क्षमता युक्त ऑनसाइट सेंट्रल एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट (ईटीपी) विकसित किया है. केंद्रीय ईटीपी प्रभावी रूप से उत्पन्न प्रवाह के 100% का उपचार करता है और कंपनी को 95-90% तक रिसाइकल्ड पानी को पुनः प्राप्त करने की अनुमति देता है. एससीएम टाउनशिप में एक सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) है जो घरेलू अपशिष्ट जल को उपचारित पानी में परिवर्तित करता है, जिसे बागवानी, मशीनरी और वाहनों की धुलाई के लिए पुन: उपयोग किया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप शून्य तरल निर्वहन होता है. टीएसएमएल सुकिंदा में अपनी सरुआबिल और कमरदा क्रोमाइट खदानों के लिए 1200 क्यूबिक मीटर प्रति घंटे की क्षमता का एक और केंद्रीय ईटीपी स्थापित करने के लिए भी काम कर रहा है. टीएसएमएल के गंजाम जिले के गोपालपुर और ओडिशा के कटक जिले के अठागढ़ में फेरो अलॉय प्लांट, दोनों जगहों में ऑनसाइट एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट हैं जो ऑनसाइट प्रोसेस वॉटर को ट्रीट करते हैं. अपने अठागढ़ संयंत्र के लिए यह पहले ही अपने पानी की खपत में 0.50 क्यूसेक की कमी कर चुका है कंपनी ने अपने संयंत्र की सीमाओं के चारों ओर गारलैंड ड्रेन का निर्माण किया है और जिगिंग तथा हॉट मेटल केक क्वेंचिंग ऑपरेशंस के साथ-साथ सर्फेस रन ऑफ से ईटीपी तक अपशिष्ट जल को प्रवाहित करने के लिए एक सेटलिंग पिट का निर्माण किया है. 100% पुनर्नवीनीकरण पानी का उपयोग मेटल कूलिंग और जिगिंग साइट पर सड़क और बागवानी कार्यों में पानी छिड़कने के लिए पुन: उपयोग किया जाता है. दोनों उत्पादन संयंत्रों में एक सीवेज उपचार संयंत्र है जो घरेलू अपशिष्ट जल का उपचार करता है. उपचारित जल का पुन: उपयोग बागवानी के लिए किया जाता है, जिससे दोनों सुविधाएं शून्य तरल-निर्वहन हो जाती हैं.

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!