jharkhand-saryu-roy-raghuvar-das-politics-सरयू राय ने मेनहर्ट मामले में रघुवर दास पर बोला हमला, साधे कई सवाल, कहा-रघुवर दास ‘थेथरई’ कर रहे, अपने हाथ से खुद कालिख पोत रहे है

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : दो दिन पूर्व 27 जुलाई को मेनहर्ट नियुक्ति घोटाला पर लिखित विधायक और पूर्व मंत्री सरयू राय की पुस्तक “लम्हों की ख़ता” का विमोचन के बाद से इसको लेकर राजनीति गरम है. पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इसको दुर्भावना से प्रेरित बताया था तो सरयू राय ने बुधवार को पलटवार किया है. सरयू राय ने कहा है कि अपने लंबे और बेसिर-पैर वाले वक्तव्य में श्री दास ने उनकी (सरयू राय की) पुस्तक को उनकी छवि मलिन करने की कोशिश बताया है और कतिपय सवाल खड़ा किया है. एक को छोड़कर उनके सभी प्रश्नों के उत्तर “लम्हों की ख़ता” में है. वह प्रश्न है कि ओआरजी का कार्यालय कहां था ? उन्हें इस सवाल के उत्तर की जानकारी है. फिर भी मैं बता दूं कि ओआरजी का कार्यालय डोरंडा के मजिस्ट्रेट कॉलोनी स्थित उसी पांच मंज़िला इमारत के भूतल पर था, जिसकी पांचवीं मंज़िल के तीन कमरों वाले एक फ़्लैट में श्री राय वर्ष 2000 से रह रहे है. श्री राय ने कहा है कि यह सवाल पूछने का उनका सबब है कि ओआरजी से उनका (सरयू राय का) संबंध था और उसे एवं एक अन्य परामर्शी स्पैन ट्रायवर्स मॉर्गन को हटाकर रघुवर दास ने मेनहर्ट को बहाल किया था इसलिये ओआरजी की तरफ़दारी में वे मेनहर्ट नियुक्ति घोटाला का मामला उठाया था जिसका उद्देश्य “उनकी दूध की धुली” छवि को धूमिल करना था. अब एक सवाल रघुवर दास से सरयू राय ने पूछा है कि क्या उन्हें पता नहीं है कि उनके द्वारा हटाये जाने के विरूद्ध ओआरजी ने झारखंड उच्च न्यायालय का दरवाज़ा खटखटाया था और अपने हटाये जाने को ग़लत बताते हुये किये गये काम का भुगतान मांगा था. न्यायालय ने उसकी अर्ज़ी यह कहकर ख़ारिज कर दिया कि इस विषय का निर्णय करना उच्च न्यायालय की परिधि से बाहर है यह आर्बिट्रेशन का मामला है. ओआरजी ने इस आधार पर पुन: उच्च न्यायालय में रिट याचिका दाखिल किया और उच्च न्यायालय ने केरल उच्च न्यायालय के अवकाश प्राप्त मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति यूपी सिंह को आर्बिट्रेटेड बहाल कर मामले का निपटारा करने का आदेश दिया. न्यायमूर्ति यूपी सिंह ने विस्तृत विवेचना के साथ अपना फ़ैसला झारखंड न्यायालय को सौंप दिया कि “ओआरजी को हटाने का निर्णय ग़लत था, उसके द्वारा किये गये काम की एवज़ में झारखंड सरकार उसे 3. 61 करोड़ रूपये का भुगतान करे.” इसके बाद भी रघुवर दास द्वारा इस मामले में सवाल खड़ा करना थेथरई करना नहीं कहा जायेगा तो क्या कहा जायेगा. ऐसा सवाल उठाकर वे अपनी किरकिरी करा रहे हैं, खुद अपनी छवि धूमिल कर रहे हैं और अपने ही हाथ से अपने चेहरे पर कालिख पोत रहे हैं. उनकी इस जिज्ञासा समाधान लम्हों की ख़ता के खंड-2 में विद्यमान है.
सरयू राय ने रघुवर दास से सवालों का जवाब मांगा है. सरयू राय ने रघुवर दास से सवाल किया है कि क्या यह सही है कि

Advertisement
Advertisement
  1. ओआरजी को हटाकर मेनहर्ट को बहाल करने के लिये जो टेंडर उन्होंने नगर विकास विभाग से निकालवाया वह टेंडर विश्व बैंक की क्यूबीएस प्रणाली पर निकाला गया, जबकि इसे क्यूबीसीएस प्रणाली पर निकाला जाना चाहिये था ?
  2. इस टेंडर का मूल्यांकन हुआ तब मूल्यांकन समिति ने और विभागीय सचिव ने उन्हें बताया कि कोई भी निविदादाता निविदा की शर्तों पर योग्य नहीं है. इसलिये टेंडर रद्द कर नया टेंडर क्यूबीसीएस प्रणाली पर निकाला जाय. परंतु मंत्री श्री रघुवर दास ने अपने कार्यालय कक्ष में मूल्यांकन समिति और मुख्य समिति की बैठक बुलाकर निर्देश दिया कि आज ही उनके कार्यालय कक्ष में बैठक कर वे लोग इन्ही निविदाओं का मूल्यांकन करने का उपाय करें.
  3. मंत्री रघुवर दास के निर्देश पर निविदा की शर्तों में बदलाव कर मूल्यांकन किया गया और मेनहर्ट अनियमित तरीक़ा से बहाल हुआ. जबकि निविदा खुल जाने और मूल्यांकन हो जाने के बाद शर्तों में बदलाव करना अनुचित है और भ्रष्ट आचरण का द्योतक है.केन्द्रीय सतर्कता आयोग भी इसे अपराध मानता है.
  4. निविदा शर्तों में बदलाव करने के बाद भी मेनहर्ट अयोग्य था. निविदा शर्तों के अनुसार निविदादाताओं से विगत तीन वर्षों का टर्नओवर माँगा गया था पर मेनहर्ट ने केवल दो वर्षों का ही टर्नओवर दिया. इस प्रकार मेनहर्ट अयोग्य था. उसकी निविदा ख़ारिज होनी चाहिये थी. इसके बाद भी मेनहर्ट को योग्य करार दिया गया.
  5. निविदा शर्तों के अनुसार टेंडर तीन लिफ़ाफ़ों में डालना था. एक लिफ़ाफ़ा योग्यता का, दूसरा लिफ़ाफ़ा तकनीकी क्षमता का और तीसरा लिफ़ाफ़ा वित्तीय दर का था. शर्त थी कि योग्यता की किसी भी एक शर्त को पूरा नहीं करने वाला निविदादाता अयोग्य माना जायेगा और वह निविदा प्रतिस्पर्द्धा से बाहर हो जायेगा, उसे अयोग्य करार दिया जायेगा. उसका तकनीकी क्षमता वाला लिफ़ाफ़ा नहीं खोला जायेगा. पर टर्नओवर वाली शर्त पर अयोग्य होने के बावजूद मेनहर्ट का तकनीकी लिफ़ाफ़ा खोला गया.
  6. विधानसभा में मामला उठा तो मंत्री रघुवर दास ने सदन में झूठ बोला कि निविदा दो लिफ़ाफ़ों में मांगी गई थी. एक तकनीकी लिफ़ाफ़ा और दूसरा, वित्तीय लिफ़ाफ़ा. योग्यता वाले लिफ़ाफ़ा को वे गोल कर गये, कारण कि योग्यता की शर्तों पर मेनहर्ट अयोग्य था.
  7. विधानसभा की विशेष जांच समिति के सामने भी और तकनीकी उच्चस्तरीय जाँच समिति के सामने भी नगर विकास विभाग ने यही झूठ परोसा कि निविदा दो लिफ़ाफ़ों – एक तकनीकी और दूसरा वित्तीय -में ही माँगी गई थी. योग्यता के लिफ़ाफ़ा को फिर छुपा दिया गया.
  8. विधानसभा की कार्यान्वयन समिति ने जाँच शुरू किया तो मंत्री रघुवर दास ने अड़ंगा लगाया और तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष श्री इंदर सिंह जी नामधारी के पत्र लिखकर जाँच रोकवा दिया. इस समय तक तो रघुवर दास ही मंत्री थे. मेनहर्ट की अनियमित नियुक्ति में उनकी मुख्य किरदार की भूमिका उपर्युक्त से स्पष्ट है. उपर्युक्त विवरण सही है या नहीं है, उन्हें बताना चाहिये.
    इस बीच सरकार बदली. आलमगीर आलम विधानसभाध्यक्ष बने. कार्यान्वयन समिति की जाँच फिर से शुरू हुई. रघुवर दास को बताना चाहिये कि क्या यह सही है कि
  9. रघुवर दास ने जाँच रोकने के लिये सभाध्यक्ष को फिर से चिट्ठी लिखी.
  10. कार्यान्वयन समिति ने मेनहर्ट की बहाली को अवैध माना और इसे दिया गया कार्यादेश रद्द करने एवं इसे बहाल करने के दोषियों पर कारवाई करने की अनुशंसा की.
  11. इसके बाद 5 अभियंता प्रमुखों की समिति बनी. इसने कहा कि निविदा की शर्तों के अनुसार मेनहर्ट अयोग्य था. निविदा प्रकाशन से निष्पादन तक हर स्तर पर त्रुटि हुई है.
  12. इसके बाद निगरानी विभाग के तकनीकी कोषांग ने जाँच किया और पाया कि योग्यता, तकनीकी, वित्तीय सभी मापदंडों पर मेनहर्ट के पक्षों पक्षपात हुआ. मेनहर्ट अयोग्य था.
    इस कालखंड में कुछ समय रघुवर दास मंत्री थे. बाद में कई वर्ष तक उनकी चहेती अधिकारी राजबाला वर्मा निगरानी आयुक्त थीं. इन्होंने निगरानी ब्यूरो को जाँच नहीं करने दिया, जाँच करने की अनुमति नहीं दिया. श्री राय ने कहा है कि अब रघुवर दास बतायें कि किस जाँच में मेनहर्ट की नियुक्ति सही पाई गई और किस न्यायालय ने मेनहर्ट की बहाली पर क्लिन चिट दिया. सच्चाई है कि किसी ने मेनहर्ट की बहाली पर क्लिनचिट नहीं दिया. स्पष्ट है कि मेनहर्ट की नियुक्ति ग़लत थी, वह अयोग्य था, उसकी बहाली में अनियमितता, भ्रष्टाचार, घोटाला हुआ. मेनहर्ट को किसने भुगतान किया, किसने कैबिनेट के सामने सही बात नहीं रखा. इस संदर्भ में श्री अर्जुन मुंडा और श्री हेमंत सोरेन के नाम की आड़ में वे अपना क़सूर छुपाने की कोशिश कर रहे हैं. उनका अपराध, उनका भ्रष्टाचार इससे अलग है. मैं जानता हूँ कि श्री दास उपर्युक्त प्रश्नों का सही उत्तर देने के काबिल नहीं है. बेहतर होगा वे सच मान लें और पश्चाताप करें. इसी में उनका कल्याण है. श्री राय ने कहा है कि रघुवर दास की छवि धूमिल करने से उनको अथवा किसी अन्य को क्या हासिल होने वाला है. अपनी छवि धूमिल करने के लिये श्री दास स्वयं पर्याप्त हैं. सार्वजनिक एवं राजनीतिक जीवन में जो खुद अपने हाथों से अपने चेहरे पर कालिख पोतता है उसके लिये दूसरे को प्रयत्न करने की ज़रूरत नहीं होती.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement